09/07/2010 - 11:38 4- डीजल/विद्युत पम्प सैट योजना.. Downloads पूर्व विधायक, चंदनकियारी बांसवाड़ा : साधारण सभा में भी गुल रही बिजली, बोले ग्रामीण- बिजली आती नहीं, फिर भी थमा रहे हजारों का बिल अटल बिहारी के निधन पर 7 दिन का राष्ट्रीय शोक, आज बंद हैं स्कूल-कॉलेज 719 अमृतसर Terms of Use असम यूनिवर्सिटी के चांसलर हैं गुलजार, देश के कई स्कूलों की प्रेयर बन गई उनकी रचना हमको मन की शक्ति देना 3 mins Bijli Bachao in Media जीजा करता था साली से दरिंदगी, साली ने प्रेमी के... ललितपुर रोहतक स्वास्थ्य छत्तीसगढ़Sat, 18 Aug 2018 06:31 AM (IST) प्रमोद केशरी Hollywood தமிழ் अटल जी के निधन पर भावुक हुए शाहरुख, इस गीत... ऊर्जा उत्पादक संघ के पावर प्रोडक्शन के प्रबंध निदेशक अशोक खुराना के मुताबिक, अगर सरकार सभी पक्षकारों की राय के मुताबिक आगे बढ़ती है, तो उपभोक्ताओं को सीधे तौर पर फायदा मिलेगा। केंद्रीय ग्रिड तंत्र सीमित नहीं रहेगी और सभी संयंत्रों में एकरूपता आएगी। जर्मन पाठमाला ओपन एक्सेस से सस्ती बिजली खरीदने वाले उपभोक्ताओं पर एडीशनल सरचार्ज लगाने की मांग... टिहरी बाल वाटिका AAP J&K‏ @AAPJammuKashmr 18 Aug 2015 प्रशिक्षण अनुसंधान परियोजनाएँ – डीएसडी खुंटी प्रकृति एवं प्रक्रिया पी एस एवं एल एफ 28 C 10 दिसंबर 2017 News18 रेवाड़ी इस योजना के लिए कुल 43 हजार 33 करोड़ के निवेश की आवश्यकता है। जिसमें से भारत सरकार (योजना की पूरी अवधि में) 33 हजार 4 सौ 53 करोड़ की सहायता देगी। निजी डिस्कॉम एवं राज्य बिजली विभागों समेत सभी डिस्कॉम इस योजना के तहत वित्तीय सहायता के लिए पात्र होंगी। डिस्कॉम विशिष्ट नेटवर्क जरूरत को ध्‍यान में रखते हुए ग्रामीण ढांचागत कार्यों को मजबूत बनाने को वरीयता देंगी और इस योजना के तहत आने वाली परियोजनाओं के लिए विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार करेंगी। इस योजना को क्रियान्वित करने के लिए नोडल एजेंसी ग्रामीण विद्युतीकरण निगम (आरईसी) होगी। आरईसी,  योजना के लागू किए जाने की मासिक प्रगति रिपोर्ट को ऊर्जा मंत्रालय तथा केन्द्रीय विद्युत प्राधिकरण के समक्ष प्रस्तुत करेगी। इस रिपोर्ट में वित्तीय तथा वास्तविक प्रगति का ब्यौरा दिया जाएगा। सड़क पर हार्मोनियम बजाता है ये शख्स, 'इंडियन आइडल 10' के जज नेहा-विशाल ने दान किए 1-1 लाख रुपये Latest Articles पांच श्रेणियों में बांटे गये उपभोक्ता  स‍िनेमा ताजा खबरें समाजसेवी आराभुसाई, कटकमसांडी लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्कः एनडीए में जदयू के सहयोगी दल आरएलएसपी प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने सीएम नीतीश कुमार पर कड़ा हमला बोला है. उपेंद्र कुशवाहा का यह बयान तब आया है जब बिहार में अपराध […] कीर्ति आजाद ने दरभंगा से चुनाव लड़ने का किया ऐलान फिक्स चार्ज में वृद्धि नहीं, समय पर बिल देने पर डेढ़ फीसदी की छूट www.bhaskar.com Aug 11, 2018, 05:30 IST BSES पूर्णिया September 14,2017 05:01:02 PM वजीरगंज : जदयू ने किया जीविका के तर्ज पर पंचायतों… Muzaffarpur 20 को मनाएंगे सद‌्भावना दिवस नरेगा दूसरे का दुःख बांटने का ही नाम है संगत पंगत : आर के सिन्हा कैलेंडर 2018 शुभ पंचांग इंग्लैंड396/7 VIDEO: कानपुर में लोगों ने अटल जी को दी नम आंखों से विदाई आरएसओपी की तकनीकी रिपोर्टें खंडवा: एवरेज रीडिंग लेकर बिल थमाकर उपभोक्ता की सेवा में कमी करने पर फोरम ने बिजली कंपनी पर जुर्माना लगाया है। उपभोक्ता फोरम ने बिजली कंपनी को उपभोक्ता को 3000 रुपए देने को कहा है। गोड्डा उन्होंने कहा, ''जो एक छोटा व्यापारी जिस मार्केट से लोहा ख़रीदता है और उसी मार्केट में गेट बनाकर बेचता है उसे जीएसटी का कोई फ़ायदा नहीं होना है.'' दुमका : इंडोर स्टेडियम दुमका में अरविन्द प्रसाद की अध्यक्षता में झारखंड राज्य विद्य्नुत नियामक... अजब-गजब : बंदरों ने फेंका सुतली बम, विस्फोट में तीन लोग घायल भास्कर के पाठकों के लिए पहली तस्वीर तरंग दृष्टि मैगज़ीन विनोबा भावे विस्वविद्यालय छात्र अध्यक्ष मध्यप्रदेश कृषि विभाग द्वारा क्रियान्वित की जा रही विभिन्न योजनाओं के अन्तर्गत किसानों को दी जाने वाली सुविधाए। समय-समय पर आवश्यकतानुसार इन सुविधाओं में परिवर्तन हो सकता है, अतएव इस हेतु विभाग के अधिकारियों से सतत् सम्पक्र बनाएं रखें। ग्रामीण क्षेत्रों में 2 से 5 किलोवाट तक कनेक्शन लेने वालों को 60 रुपये प्रति किलोवाट जमा करना पड़ता था, जबकि शहरी क्षेत्रों में 2 किलोवाट से ऊपर और 5 किलोवाट से कम के कनेक्शन के लिए 150 रुपये प्रति किलोवाट जमा कराया जाता था।  कैग करेगी डिस्कॉम का ऑडिट महज 3.7 सेकंड्स में 0-100 kph की स्पीड पकड़ेगी Audi की RS6 Avant... राज्यपाल संदेश अटल बिहारी वाजपेयी: किसी को श्रद्धांजलि देते वक़्त हम पाखंड क्यों करने लगते हैं सिरमौर Home » देश » बिहार में महंगी हुई बिजली, नई दर एक अप्रैल से 19 replies 255 retweets 162 likes Include parent Tweet डायबिटीज, ब्‍लड प्रेशर और कैंसर की दवाओं के तय होंगे दाम बीमारियां-लक्षण एवं उपाय यहां जान जोखिम में डाल खड्डों में नहाने उतर रहे पर्यटक Cashback on offer price: 2142 <2W और <10 वीए सोयाबीन (Soybean) हमारा पता RSS| सरस्वती शिशु मंदिर ने दी पुष्पांजली posted on August 18, 2018 प्रमुख, कटकमसांडी बिज़नेस डायरी ऑडियो आर्टिकल्स हरियाली तीज 2018: जानिए क्या है शुभ मुहूर्त और पूजा विधि पीसीबी संविरचना आइए जानते हैं बिजली की दरों में बढोतरी को लेकर किन मुद्दों पर गुप्ता ने सरकार को घेरा सरकार ने निजी कंपनियों के उस हिसाब किताब को लेकर कोई पड़ताल नहीं की, जो कंपनियों ने सरकार के पास जमा कराया. हर साल कंपनियां फर्जी घाटा सरकार के सामने पेश करती हैं और सरकार चुपचाप उसे अपने पास रख लेती है, इसका मतलब है कि सरकार की मौन स्वीकृति है. अब कंपनियों ने इसी घाटे को आधार बनाकर बिजली की बढ़ी हुई दरें डीईआरसी के सामने पेश कर दी हैं. सरकार तो (सीएजी) आडिट कराने की बात करती थी, लेकिन अब उस मामले पर चुप है, केजरीवाल जी को जवाब देना चाहिए कि आखिर दिल्ली वालों को सस्ती बिजली के सपने दिखाकर बिजली महंगी करने की तैयारी क्यों की जा रही है. सरकार हर साल दो हज़ार करोड़ रुपए निजी बिजली कंपनियों को सब्सि़डी के तौर पर दे रही है, दिल्ली की जनता की कमाई का पैसा कंपनियों को दिया जा रहा है और अब दिल्ली की जनता पर ही टैरिफ का बोझ बढाने की तैयारी हो रही है. सस्ता ऊर्जा - कम दर ऊर्जा कंपनियों सस्ता ऊर्जा - गैस और इलेक्ट्रिक लागत सस्ता ऊर्जा - गैस और बिजली की कीमतों की तुलना करें
Legal | Sitemap