कुमार ने कहा, 'कई पावर कंपनियों के कर्ज को पहले ही बैड लोन कैटेगरी में डाला जा चुका है और इस तरह के कुछ और लोन इस वर्ग में जा सकते हैं। हाईकोर्ट का फैसला बैंकों के लिए अच्छा है क्योंकि इससे उन्हें कोर्ट से बाहर लोन रिजॉल्यूशन के लिए अधिक समय मिलेगा।' आरबीआई के सर्कुलर में 180 दिनों के पीरियड के लिए 1 मार्च को रेफरेंस डेट बताया गया था। इसलिए बैंकरप्सी कोर्ट से बाहर लोन रिजॉल्यूशन के लिए बैंकों के पास अगस्त के अंत तक का समय है। अभी देश की 22 पर्सेंट इंस्टॉल्ड पावर जेनरेशन कैपेसिटी एनपीए है। रिजर्व बैंक के डेटा के मुताबिक, भारतीय बैंकों ने पावर सेक्टर को अप्रैल के अंत तक 5.19 लाख करोड़ रुपये का कर्ज दिया हुआ था। बुंदेलखण्ड175 बिटकोइन पोस्ट-चुनाव उछाल देखने के लिए केवल डिजिटल मुद्रा नहीं था - CoinDesk Indonesian Indonesia 1699914088खरीदे ये हैं डिफॉल्टर टेक्नॉलॉजी संबल योजना में पंजीकृत श्रमिक और बीपीएल उपभोक्ताओं के घरेलू कनेक्शन पर बिजली बिल की बकाया राशि को श्रम विभाग के पंजीयन अथवा बीपीएल कार्ड का क्रमांक उपलब्ध करवाने पर माफ किया जाएगा। ऐसे पंजीकृत श्रमिक जिनके निवास का बिजली कनेक्शन उसके स्वयं के नाम पर न होकर उसके परिवार के किसी सगे-संबंधी के नाम पर हो तथा बीपीएल उपभोक्ता को सरलता से नामांतरण की सुविधा देते हुए उपभोक्ता के साथ निवासरत होने की दशा में स्कीम का लाभ दिया जायेगा। यदि संबल योजना में पंजीकृत कोई पात्र हितग्राही-बिजली उपभोक्ता के परिवार का सदस्य है और उसके साथ रहता है, तो ऐसे कनेक्शन पर भी स्कीम का लाभ मिलेगा। इसके लिए उपभोक्ता का नाम बदलना जरूरी नहीं होगा, तथापि ऐसे प्रकरण में परिवार का सदस्य उन्हीं व्यक्तियों को माना जाएगा, जिनके नाम समग्र डाटाबेस में एक परिवार के रूप में अंकित हों। Similar PostsView All इस ‘श्रद्धांजलि’ से वह तिलांजलि नहीं छिपने वाली, जो संघ ने अटल को जीते दे दी थी एसपी प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने बढ़ोतरी को आम जनता के साथ विश्वासघात करार देते हुए कहा कि पहले ही लोग महंगाई की मार झेल रहे हैं, अब बिजली के दाम बढ़ाकर बीजेपी सरकार ने सबकी कमर तोड़ दी है. राजधानी में चुकनगुनिया और डेंगू ने तो स्वास्थ्य विभाग के साथ-साथ नगर निगम की पोल खोल दी है। ऐसी ही स्थिति शिक्षा को लेकर है जहां सरकारी प्राथमिक विद्यालयों को मर्ज करने को लेकर सियासी बवाल मचा हुआ है। साथ ही बच्चों को पढ़ाने के लिए बहाल किए गए पारा टीचरों की स्थिति सबके सामने हैं, जो वर्षों से अपने मूल कार्य को करने के लिए आंदोलित है। राज्य की विद्युत कंपनियों यूपीसीएल, यूजेवीएनएल, पिटकुल और एसएलडीसी ने वितरण, उत्पादन और पारेषण का टैरिफ प्रस्ताव विद्युत नियामक आयोग को दिया था। यूपीसीएल ने बिजली की दरों में लगभग 13 फीसदी की वृद्धि का प्रस्ताव आयोग को दिया। आयोग इस प्रस्ताव पर जन सुनवाई कर सुझाव आमंत्रित कर चुका है। बिजली की दरों में वृद्धि के प्रस्ताव पर ऊर्जा निगमों की राय भी ली। इसके बाद आयोग ने नई दरों का एलान किया।  अटलजी के नाम पर मोदी सरकार ने शुरू की थी ये योजना, हर महीने 210 रुपए देकर पा सकते हैं 5,000 तक की गारंटीड पेंशन ऑनलाइन रिलीज़ ऑर्डर और बिलिंग सिस्टम महीने भर के केरल : बाढ़ बारिश से 9 दिनों में 324 लोगों की... Ceiling Fan blade angle can impact electricity consumption 26 Views प्रधानमंत्री आवास योजना क्राइम Podcasts & Newsletter पाकिस्तान ने ट्विटर को बंद करने की धमकी दी नोट: बिहार राज्य का टैरिफ वर्ष 2017-18 के लिए है, जबकि अन्य राज्यों का टैरिफ वर्ष 2016-17 पर आधारित है.  डीईआरसी चेयरमैन पी. डी. सुधाकर ने कहा कि अभी बिजली कंपनियां सस्ती बिजली खरीदने के कोई गंभीर प्रयास नहीं करती। हम ऐसा सिस्टम बनाना चाहते हैं कि अगर बिजली कंपनियां खर्च कम करती हैं तो उसका जो फायदा होगा उसका कुछ हिस्सा कंपनी को मिलेगा। वह एक तरह से बिजली कंपनी के लिए इंसेंटिव होगा। अभी ऐसा कोई इंसेंटिव नहीं है। हम चाहते हैं कि ऐसा हो। अगर वह मेहनत करके खर्च कम करते हैं तो उन्हें इसका इनाम मिले और इससे कंस्यूमर को भी फायदा होगा। Lifestyle301 5:57 विकाश सिन्हा एयर इंडिया को पायलटों ने दी चेतावनी, भत्ता दो नहीं तो छोड़ देंगे विमान उड़ाना अवकाश पंचांग लीटर 1, किलोमीटर 111 वो भी डीज़ल से Register उपमुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ईमानदारी से काम कर रही है तभी यह संभव हो रहा है। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी की सरकार उन सरकारों जैसी नहीं है जो चुनाव जीतने के बाद अपने वायदे भूल जाते हैं। उन्होंने कहा कि हमने जो वायदे किए उसे निरंतर पूरा किया जा रहा है।  विषय सावन विशेष: कृपा से भरी हैं शक्ति और करुणा से भरे शिव योर मनीः युवाओं के लिए कौनसे फंड हैं बेस्ट मीनाक्षी रानी गुड़िया  Leaders पठानकोट केरल के बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आगे आया UAE, शेख खलीफा ने दिए अहम निर्देश परियोजनाओं को अनुमति देने की प्रक्रिया शीघ्र ही प्रारम्‍भ होगी। अनुमति मिलने के बाद परियोजनाओं को पूरा करने के लिए राज्‍यों की वितरण कंपनियों और वितरण विभाग को ठेके दिए जाएंगे। ठेके देने की अवधि से 24 महीने के भीतर परियोजनाओं को पूरी किया जाना चाहिए। प्रोफ़ेसर दिवाकर ने कहा कि जीएसटी से कंज़्यूमर स्टेट को फ़ायदा होगा न कि बिहार जैसे ग़रीब राज्यों को. उन्होंने कहा कि जीएसटी की पूरी व्यवस्था विदेशी पूंजी के स्वागत के लिए है. दिवाकर ने कहा कि यदि गोदरेज का साबुन सस्ता मिलेगा तो लोग कुटीर उद्योग का मंहगा साबुन क्यों लेंगे और अगर ऐसा होता है तो छोटे व्यापारियों के हित में नहीं है. Find Friends भारतीय वस्तु सूची , सीपीआरआई का नेतृत्व Epaper लखनऊः 30 हजार लोगों को सिंगल पॉइंट कनेक्शन से मिलेगी मुक्ति दूसरा सवाल – परिवारों को अंतिम छोर तक बिजली कनेक्शन प्रदान करने के लिए क्या किया गया है? Subject क्र जाहिर है, चीनी सरकार की जनरल एंटी-बिटकॉइन रुख जारी रहती है, जिनकी रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन की बिटकॉइन खनन सुविधाओं की सबसे बड़ी पनबिजली बिजली जल्द ही अतीत की बात हो सकती है। स्थानीय मीडिया। आयुषमान भारत योजना स्वास्थ्य मित्र नौकरियां © जिला इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश , इस वेबसाईट का निर्माण एवं होस्टिंग राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र, फिरोजाबाद के लोहामंडी इलाके में तनाव, ये है वजह पश्चिमी सिंहभूम में भाजपा को मजबूत करने के संकल्प के साथ स्वंतत्रता दिवस की बधाई कार्यपालक दंडाधिकारी, बेरमो, तेनुघाट © 2018 Bijli Bachao. All rights reserved. अनंत में विलीन हुए अटल बिहारी वाजपेयी, कल होगा अस्थि विसर्जन केंद्रीय मानवाधिकार संगठन, प्रदेश सचिव जनअभियान परिषद कार्यालय में झंडा वन्दन किया गया किसी भी तरह की हेल्प के लिए यहां संपर्क करें महिलाएं... Lifestyle // ]]> © Punjab Kesari 2018 मनोरंजन 32 Views शासकीय विभाग विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी   ⁄  Free Electricity scheme Saubhagya Yojana begins in Dehradun इंडिया की अन्‍य खबरें भूमाफिया ने बेच दी आईपीएस अफसर की जमीन Daily Updates बॉलीवुड एक्ट्रेस काजोल ने इंटरव्यू में महिला प्रधान फिल्मों पर कही यह बात अगले साल दिसंबर तक बिहार के हर खेत में पहुंचेगी बिजली: सुशील मोदी रिपोर्ट में खुलासा, मनमोहन सिंह के कार्यकाल में देश ने हासिल की सबसे... 0 टैरिफ आर्डर समय पर। Rajasthan News जीपीएस नेविगेशन, कीलेस एंट्री सर्वोत्कृष्ट कृषि पहल कमरे रोशनी से भरपूर हैं और हवा की गुणवत्ता अच्छी है. साथ ही तापमान भी स्थिर रहता है. इस तरह का घर बनाना सामान्य से महंगा है लेकिन इसके बाद ऊर्जा की बचत के कारण खर्चा कम होता है. कश्मीर को मिली शीशे से बनी विशेष ट्रेन, और मनोरम होगा वादियों का नजारा Chhattisgarh News पढ़ाने का तरीका संत कबीर नगर शिक्षा विभाग के अपर सचिव पर हाईकोर्ट ने लगाया 5 लाख का जुर्माना 232 Likes ऑटोमोबाइल The Express Group | The Indian Express | The Financial Express | Loksatta | inUth | Ramnath Goenka Awards © 2017 - 2018 Copyright . All Rights reserved. बाकी समाचार बिहार में आम आदमी को लगेगा बिजली का झटका, नयी दर 1 अप्रैल से होंगी प्रभावी 11. राशि के अनुसार शादी की ड्रेसों का करें चयन, ग्रहों और रंगों का खुशियों से सीधा संबंध विद्युत नियामक आयोग ने बिजली बिल पर लगने वाले दोहरे रेग्युलेटरी सरचार्ज से उपभोक्ताओं को राहत दी है। आयोग ने रेग्युलेटरी सरचार्ज प्रथम को खत्म करने का आदेश आज जारी कर दिया। दरअसल प्रदेश के बिजली उपभोक्ताओं से मौजूदा समय में दोहरा रेग्युलेटरी सरचार्ज लिया जा रहा था। रेग्युलेटरी सरचार्ज प्रथम और द्वितीय। Recipient's name  domestic electricity rate increase Life and Style श्री नेगी ने बताया कि दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति योजना सात दिन चौबीय घंटे सभी को बिजली, मुख्यमंत्री हर घर बिजली योजना और सौभाग्य सहित अन्य योजनाओं के तहत सभी उपभोक्ताओं को वित्त वर्ष 2018-19 तक विद्युत कनेक्शन उपलब्ध कराना है। उन्होंने बताया कि साथ ही दिसंबर 2017 तक सभी गांवों का विद्युतीकरण कार्य पूरा करने के लिए नेटवर्क का विस्तार होने से पूंजीगत व्यय में वृद्धि हुई है, जिसके कारण से बिजली की दरों में बढ़ोतरी की गई है। राज्यसभा टीवी डिस्कशंस त्योहारों के मौसम में फ्लिपकार्ट और अमेजॉन लेकर आ रही बिग सेल श्री रुप नारायण झा ने कहा कि विद्य्नुत विभाग यदि अपनी लाइन लॉस को रोक लेते हैं तो विधुत दर नहीं बढाना पड़ेगा। ।ठ स्विच को बढ़ाने की अवश्यकता है। दुमका के चेंबर ऑफ कॉमर्स के पूर्व अध्यक्ष श्री सियाराम घड़िया ने कहा कि विभाग की कमी से विद्य्नुत दर बढ़ रही है, इस पर ध्यान देने की जरुरत है। विद्य्नुत की लॉस कम करने की जरुरत है। 12.50 लाख मीटर लगाने की शुरुआत बहुत अच्छी पहल है। इससे विद्य्नुत लॉस का पता चल पाएगा। राजस्थान                         100                 6.10 रुपए  (नई दर से) Pipliyamandi news @खेतों से फसल चुरा रहे युवक को ग्रामीणों ने पुलिस के हवाले कि या विमानन कंपनियां बहुत ज्यादा किराया नहीं वसूल रहीं: DGCA आरटीएल, नोएडा प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना सौभाग्य योजना – प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 25 सितंबर, 2017 को ग्रामीण और शहरी इलाकों के साथ ही देश में सभी विद्युतीकरण के इच्छुक घरों को सुनिश्चित करने के लिए सौभाग्य योजना के नाम से एक नई योजना शुरू की है। यह योजना देश के ग्रामीण और शहरी इलाकों में रह रहे गरीब और पिछड़े वर्ग के लोगों के घरों में उजाला करने के उद्देश्य से शुरू की गयी है। उत्‍तराखंड में 'सौभाग्य' योजना लॉन्च, 10400 घरों की चमकेगी किस्‍मत SIMILAR POSTS Follow our भारत section for more stories. ePaper ...जब वाजपेयी ने दी थी मोदी को राजधर्म निभाने की नसीहत जर्मन सीखिये बिजली स्विच करें - मेरे क्षेत्र में इलेक्ट्रिक प्रदाता बिजली स्विच करें - सस्ता विद्युत प्रदायक बिजली स्विच करें - यहां अधिक समाधान खोजें
Legal | Sitemap