बेंगलूर 560 080, भारत टेली फैक्स: +91- 80-2360 0942 वृद्धावस्था पेंशन/ किसान पेंशन Film Resources – Film and Video Resources Issue Title * : Audiotrainer सिमडेगा और पढ़ें हरियाणा के बारे में उन्होंने बताया कि 2011-12 निगम को करीब 345 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ। बोर्ड ने व्यक्ति से संपर्क करें: [email protected] वितरण प्रणालियाँ प्रभाग First India News Rajasthan Updated: March 21, 2018, 4:59 PM IST महज 3.7 सेकंड्स में 0-100 kph की स्पीड पकड़ेगी Audi की RS6 Avant... Difference between Inverter Technology and Power Inverter लॉग इन रजिस्टर मीटर ऊंचे टॉवर से यह तस्वीर सिल्लीगुडी News अमेरिका ने रोहिंग्या मामले में म्यांमार सेना पर लगाये प्रतिबंध हरियाणा के ग्रामीण क्षेत्रों को 24 घंटे बिजली उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से शुरू की गई म्हारा गांव-जगमग गांव योजना एक बेहतरीन प्रयोग है जिसने परंपरागत राजनैतिक सांस्कृति को बदलने का कार्य किया है। इससे पूर्व सत्ता में आने की इच्छा रखने वाले सभी राजनेता लोगों को बिजली के बिल फाडऩे के लिए प्रेरित करते थे और सत्ता में आने के पश्चात उन पर गोलियां चलवाते थे। वर्तमान सरकार ने इस परंपरा को तोड़ते हुए लोगों को 24 घंटे बिजली उपलब्ध करवाने की  शुरूआत की है। समुदाय घरेलू (ग्रामीण) डीएस वन(0-200 यूनिट) 1.60  4.75 WELFARE श्रेढ़ी जीएसटी में पेट्रोलियम, बिजली, शराब और और रियल एस्टेट को शामिल नहीं किया गया है. आख़िर इन अहम चीज़ों को जीएसटी से बाहर क्यों रखा गया? इसी को लेकर हमने अर्थशास्त्री अरुण कुमार और अर्थशास्त्र के प्रोफ़ेसर डीएम दिवाकर से बात की. म.प्र नाबालिग से दुष्‍कर्म पर फांसी का प्रावधान करने वाला प्रथम राज्‍य -राज्यपाल, राष्‍ट्रपति पदक प्राप्‍त पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों से भेंट 16/08/2018 इमरान ने पाक के पीएम पद की ली शपथ, नवजोत सिंह सिद्धू भी रहे मौजूद और आयात अनुरोध India Today Woman's Summit PRIVACY POLICY ग्रामीण नवाचार Tuesday, 17 Apr, 10.11 am www.bhaskar.com से अधिक समाचार Of India Undo नोटिस सुप्रीम कोर्ट पहुंचा, चुनावी साल में सस्ती बिजली और बिल माफ करने का मामला रीजनल शो अन्य लिंक प्रोटोकॉल तोड़कर पांच किमी पैदल चले पीएम नरेंद्र मोदी RAS सस्ते खनन बिजली की समाप्ति के बारे में बयान से संकेत मिलता है कि सिचुआन इलेक्ट्रिक पावर कंपनी ने एक परिपत्र जारी किया है, जिससे यह संकेत मिलता है कि वह अब अपने ग्रिड से जुड़े जल विद्युत स्टेशनों से आवश्यक शक्ति प्रदान नहीं करेगा। परिपत्र का सुझाव है कि बिटकॉइन खनन 'अवैध संचालन' है 'सर्कुलर अभी तक पुष्टि की जानी है। अक्षम यूनिट : बदरपुर पावर प्लांट में यूनिट नंबर 1, 2 और 3 अक्षम हैं। इसमें खर्च ज्यादा आता है और बिजली कम। लेकिन टोटल खर्च डिस्कॉम के खाते में आता है और यही कंज्यूमर की जेब पर भी भारी पड़ता है। नई यूनिट शुरू होनी चाहिए और अक्षम यूनिट बंद होनी चाहिए। Best Washing Machines in India 0.50                 2.65 घरेलू (शहरी) (डीएस थ्री)  4.00  5.50 # Dehradun News Paper Today हाई टेंशन टॉवर Jarnail SinghVerified account अमेरिका: एयरपोर्ट से एयरलाइन कर्मचारी ने चुराया विमान, उड़ान भरने के कुछ ही देर बाद... यूपी बेगूसराय (बिनोद कर्ण) : बछवाड़ा प्रखंड के चमथा गंगा धाम चिरैयाटोल कल्पवास मेला में मंत्री, डीएम, एसपी व विधायकों के पहुंचने से रौनक बढ़ गई है. शनिवार की देर शाम बिहार सरकार के ग्रामीण विकास […] परामर्श सेवाऍं कोयला आधारित बिजली संयंत्रों के विपरीत विंड एनर्जी प्लांट पॉल्यूशन फ्री होती है। गुजरात, तमिलनाडु, राजस्थान, एमपी, आंध्रप्रदेश के समुद्री इलाकों में विंड एनर्जी का उत्पादन होता है। ट्रांसमिशन लाइन के जरिए ये बिजली दिल्ली लाई जाएगी। एनर्जी लॉ एक्सपर्ट राजसिंह निरंजन कहते हैं कि विंड एनर्जी ग्रीन एनर्जी के अंदर आती है। www.livehindustan.com 13 आगस्त 2017, 09:31 PM News18 इंडिया शो अटल के साथ 60 साल का अटूट रिश्ता, अंतिम सांस तक साये की तरह रहे साथ मंत्रालय की संरचना राजमहल लोकसभा सहित समस्त झारखण्ड वासियो को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक सुभकामना Whatsappसब्सक्राइब By admin September 22, 2016 उपभोक्ताओं को राहत की उम्मीद पंद्रहवां सवाल –  किस तरह से, यह योजना दैनिक जीवन में लोगों के लिए उपयोगी होगी? HSSC अंतर्कलह से जूझ रही भाजपा-कांग्रेस को चुनाव में झटका दे सकती है ये तीसरी पार्टी हमसे संपर्क करें: [email protected] पात्र तथा जिम्‍मेदारियॉं Moneycontrol व्यावसायिक (ग्रामीण) (100 से अधिक यूनिट)  2.25  5.25 शहरी आवास मंत्रालय ने 2018-19 में 26 लाख, 2019-20 में 26 लाख, 2020-21 में 30 लाख और 2021-22 में 29.8 लाख मकान बनाने की योजना बनाई हुई है. हालांकि निर्माण की धीमी गति को देखते हुए यह लक्ष्य एक चुनौती की तरह लग रहा है. उदाहरण के लिए 2016-17 में सिर्फ 1.49 लाख ही मकान तैयार हो पाए थे जबकि 32.6 लाख का लक्ष्य रखा गया था. @ramesh_yadu @AamAadmiParty @DrKumarVishwas modi is leaving deli due to cm kejari and coming as cm UP एपीडीआरपी कोरे फार्मेट लक्‍खीसराय View more polls कृ‍षि वैज्ञानिक भर्ती बोर्ड (एएसआरबी) Aug 02, 2018 Nai Dunia हमार॓ साथ काम करें ALL... अमेरिका #अलविदा अटल #INDvENG #रेलवे भर्ती #अनोखी #नंदन पटना,17 अप्रैल (हि.स.)। राज्य कैबिनेट की मंगलवार को यहां हुई बैठक में इस वर्ष अप्रैल से बिजली की बढ़ी हुई टैरिफ दरों में उपभोक्ताओं को सब्सिडी देकर सरकार ने दावा किया है कि बिहार की बिजली दर सभी पड़ोसी राज्यों यूपी और पश्चिम बंगाल से काफी कम है । कैबिनेट की बैठक के बाद मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने बताया कि इस वर्ष बिजली दर में सब्सिडी के कारण राज्य सरकार के खजाने पर 4137 करोड़ का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा । पिछले वर्ष 2952 करोड़ रुपये की सब्सिडी दी गयी थी. उन्होंने बताया कि सब्सिडी के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में कुटीर ज्योति योजना के तहत बिजली की दर प्रति यूनिट 2.45 रुपये पड़ेगी । पश्चिम बंगाल में यह 3.44 रुपये और यूपी में 3.39 रुपये प्रति यूनिट है । इसी तरह शहरी और ग्रामीण क्षेत्र की बिजली दरें भी पड़ोसी राज्यों से कम हैं । इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में घरेलू उपयोग और कृषि व सिंचाई के लिए बिजली दर में कोई बढ़ोतरी नहीं की गयी है । इस पर वर्तमान दर से ही बिजली बिल का भुगतान करना होगा । शहरी क्षेत्रों की बिजली दर में महज 10 पैसे प्रति यूनिट की ही बढ़ोतरी की गयी है | अब यह 5.30 रुपये प्रति यूनिट से बढ़कर 5.40 रुपये हो गयी है । मुख्य सचिव ने कहा कि बरौनी, कांटी और नवीनगर बिजलीघरों को एनटीपीसी को ट्रांसफर कर दिया गया है । इन यूनिटों से राज्य को अपने स्तर पर बिजली उत्पादन काफी महंगा पड़ रहा था । बरौनी थर्मल पॉवर स्टेशन से अभी बिजली उत्पादन में प्रति यूनिट 5.75 रुपये का खर्च आ रहा है, जबकि बाढ़ एनटीपीसी से बिजली खरीदने पर यह खर्च 4.25 पैसे प्रति यूनिट ही पड़ेगा । इस वजह से सभी बिजली उत्पादन ईकाइयों को एनटीपीसी को ही स्थानांतरित करने का निर्णय लिया गया है । इससे सरकार को 875 करोड़ रुपये सालाना की बचत होने का अनुमान है । वर्ष 2017-18 के लिए बिजली उपलब्धता करीब 27 हजार 178 मिलियन यूनिट है, जबकि 2018-19 के लिए बिजली उपलब्धता का लक्ष्य 29 हजार 403 मिलियन यूनिट निर्धारित किया गया है, जो पिछले वर्ष से 8% अधिक है । सब्सिडी के बाद बिजली दर :-कुटीर उद्योग- 2.45,घरेलू (ग्रामीण)- 3.17,घरेलू (शहरी)- 5.40,गैर-घरेलू (ग्रामीण)- 4.00,गैर-घरेलू (शहरी)- 8.25,कृषि एवं सिंचाई-1 - 1.50,कृषि एवं सिंचाई-2 - 7.75,औद्योगिक सेवा-1 - 8.35,(19 केवी तक) औद्योगिक सेवा-2 - 8.32 (19 केवी से ज्यादा और 74 केवी से कम) औद्योगिक सेवा-1 - 8.67,(11 केवी) औद्योगिक सेवा-2 - 8.60,(33 केवी), औद्योगिक सेवा-3 - 8.01,(132 केवी) (सभी आंकड़े रुपये प्रति यूनिट में) हिन्दुस्थान समाचार/अरुण/शंकर 12वीं योजना (उप ग्रुप 6 – अनु व वि) के लिए विद्युत पर कार्यकारी ग्रुप नए आदेशों के अनुसार को सितम्बर माह से बिजली उपभोग राशि का भुगतान नई दरों से करना होगा। बिजली कंपनियों ने गठन के बाद सातवीं बार बिजली दरों में बढ़ोतरी की है। यही नहीं पड़ोसी राज्यों में तुलना में प्रदेश में बिजली दरों में प्रदेश अव्वल नंबर पर आ गया है।  राजनीति प्रशासन क्राइम बिजली-सड़क-पानी अन्य खबरें फ्यूचर नाउ लखनऊ टाइम्स ई-पेपर पकवान ब्रेकिंग न्यूज़ कौन क्या है 2017-18 में इनकम टैक्स कलेक्शन रहा 10.03 लाख करोड़ रुपए: आयकर विभाग नवभारत टाइम्स | Updated:Dec 18, 2011, 06:05AM IST ऋषिकेश प्रेस विज्ञप्ति महत्वपूर्ण लिंक्स एक ही पत्थर की चट्टान से बने इस मंदिर का पांडवों ने करवाया था... अरवल आयकर संग्रह 2017-18 में रिकॉर्ड 10.03 लाख करोड़ रुपए, रिटर्न की संख्‍या में 1.3 करोड़ की बढ़ोत्‍तरी 'तुला', 18 अगस्त: जानिए अपना आज का राशिफल हम आपके लिए अपने कंटेंट को बेहतर बनाने के लिए कूकीज का इस्तेमाल करते हैं. अधिक जानकारी डाटा सुरक्षा पेज पर उपलब्ध है. विद्युत योजना की तुलना करें - सबसे कम बिजली दरों विद्युत योजना की तुलना करें - सस्ते बिजली ह्यूस्टन विद्युत योजना की तुलना करें - बिजली चुनें
Legal | Sitemap