National Party BJP MP INFO बेगूसराय में ठनका गिरने से 3 बच्चों की दर्दनाक मौत, परिवार में मचा कोहराम बिहार : मोतिहारी में प्रोफेसर की पिटाई, जिंदा जलाने की कोशिश, अटल को बताया था संघी आखिर क्यों 13 नंबर को सुनते ही लोग आ जाते हैं… 97 फतेहपुर Studymateonline.com अभिगम्‍यता वक्‍तव्‍य 2- नलकूप/बोरवैल मय पम्प सैट योजना.. चकल्लस होटल भी Home > राज्य > बिजली बिल के भार से दबा उपभोक्ता और बिजली कंपनी की रैंकिंग पहुंची 31वें स्थान पर करनाल बिज़नेस केंद्र गवर्नमेंट राष्ट्र में बिजली की कीमतें घटाने व इसमें एकरूपता लाने की दिशा में कार्य कर रही है, जिसके लिए उसकी थर्मल ऊर्जा उत्पादन तथा शेड्यूलिंग के नियमों में ढील देने की योजना है. ऊर्जा मंत्रालय ने जुलाई में इस पर मेरिट ऑर्डर जारी कर सभी पक्षों से राय मांगी थी, जिस पर उसे सकारात्मक रुख मिला है. जालोर वैकल्पिक विषय - इतिहास EDUCATION ये भी पढ़ें- अविश्वसनीय लेकिन ये सच है, देखिए दीवारों पर कैसे होती है खेती शासी परिषद् Previous articleपत्नी का इलाज कराने जा रहे बाइक चालक की सड़क हादसे में दर्दनाक मौत मुख्य विद्युत निरीक्षक ऊर्जा विकास निगम लि. Gujarati News FOLLOW (1.2K) 1 मई, 2016 को प्रधानमंत्री ने प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की शुरुआत की थी. इसके तहत पांच करोड़ गरीब घरों को मार्च 2019 तक एलपीजी कनेक्शन देने का लक्ष्य रखा गया था. संभाग के 16 शहरों में आईपीडीएस योजना के तहत सुधार कार्य हो रहे हैं। शहडोल जिले मे धनपुरी, बुढ़ार, जयसिंह नगर, ब्यौहारी, बाणसागर टाऊन में 146.54 लाख से विद्युत सुदृढि़करण के कार्य प्रारंभ हो चुके हैं। इन सभी टाऊनों में 33/11 केवी के उपकेंद्रों की मरमम्त, क्षमता वृद्धि। 33 और 11 केवी की नई लाइनें, नई निम्न दाब की लाइने डालने के अलावा मीटर लगाने का कार्य भी चल रहा है। इसके अलावा उमरिया और अनूपपुर जिले के शहरों में भी यही कार्य शुरु हो चुके हैं। पर एक साल बीत जाने के बाद भी कार्य में उतनी गति नहीं दिख रही है। इस योजना में भी सभी शहरों में 26 करोड़ के विद्युत कार्य हो रहे हैं। अटल जी द्वारा कही गयी 10 बातें जिनके आगे दुनिया नतमस्तक हो गयी चुनाव आयोग से पहले बीजेपी के अमित मालवीय ने बता दी कर्नाटक चुनाव की तारीख, आयोग करेगा जांच @AamAadmiParty Now instead of wasting time in discussion, AAP govt shud register FIR n take stern action against discoms,Sheila Dixit n co घरेलू बिजली बिलों का भुगतान समय से नहीं कर पाने के कारण मूल बकाया राशि और उस पर अधिरोपित सरचार्ज के कारण उपभोक्ता के बिलों की राशि बहुत ज्यादा हो जाती है। मुख्यमंत्री जन कल्याण (संबल) योजना में पंजीकृत श्रमिकों और बीपीएल उपभोक्ताओं के घरेलू बिजली कनेक्शन की पुरानी बकाया राशि का निराकरण कर उन्हें नियमित बिल भुगतान करने के लिये प्रेरित करने के उद्देश्य से ही यह माफी स्कीम लागू की गई है। स्कीम का प्रभाव जून 2018 तक की कुल बकाया राशि पर लागू होगा। मनोरंजन8 जामताड़ा जीएसटी मुद्दे को गुजरात चुनाव तक जिंदा रखना चाहती है कांग्रेस, बीजेपी हुई अलर्ट Email * Copyright © NABARD. Site by: Spenta Digital और कृष्ण प्रमाणिक ऑटोनया Latest Govt Jobs           योजना की पात्रता शर्तों का जिक्र करते हुए प्रवक्ता ने बताया कि उस उद्यम को राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर अधिसूचित प्रतिबंधित सूची में न रखा गया हो। इसके अलावा, सब्सिडी जारी करने के समय उद्यम नियमित उत्पादन कर रहा हो और यह सब्सिडी बंद इकाइयों को जारी नहीं की जाएगी।  मनोरंजन की खबरें महाराष्ट्र के लोगों को बिजली दर में बढ़ोतरी का झटका पी.सी.एस. परीक्षा विवो वी7 32जीबी (मैट ब्लैक, 4जीबी रैम) नियमों में ढील मिलने से बिजली की कमी होने पर भी कंपनियों को महंगी बिजली नहीं खरीदनी पड़ेगी . जबकि वर्तमान में समझौता नहीं होने की वजह से कंपनियों को निर्धारित उत्पादन की स्थिति में ग्रिड से बिजली खरीदनी होती है, जिसमें स्पॉट रेट की वजह से कीमतें समान नहीं रहती हैं . अरुण पांडेय आशीष कुमार प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत करीब छह लाख करोड़ रुपये 12 करोड़ लोगों के बीच दिए गए हैं. हाल ही में द वायर  की आई एक रिपोर्ट के मुताबिक पांच लाख से ज्यादा का लोन लेने वालों, जिससे कि वाकई में रोजगार किया जा सकता है, की संख्या बहुत ही कम है. यह अब तक योजना के तहत दिए गए लोन का सिर्फ 1.3 फीसदी ही है. ज्यादातर लोन 50,000 से कम या फिर  50,000  और 5 लाख के बीच के है. जवानी में कर लें ये काम, वरना बुढ़ापे में मुश... शिकायत और सुनवाई असम यूनिवर्सिटी के चांसलर हैं गुलजार, देश के कई स्कूलों की प्रेयर बन गई उनकी रचना हमको मन की शक्ति देना 4 mins कैलेण्डर ‘‘इससे 85,000 से अधिक छोटे औद्योगिक उपभोक्ताओं को लाभ होगा जो 4.99 रुपए प्रति यूनिट के हिसाब से अदायगी करेंगे जबकि बड़े और दरम्याने औद्योगिक बिजली उपभोक्ता 5 रुपए प्रति यूनिट के हिसाब से अदायगी करेंगे।’’  Dari دری राज्य सरकार की नीति में उल्लेख नहीं था कि योजनाओं को नदियों का पानी प्रयोग करने के बाद कितना नीचे की धारा में छोड़ना चाहिए। पानी सुरंगों में डालने तथा प्रयोग करने के बाद नीचे नदी की पुरानी घाटी में बहाव कितना रहेगा ? पाँच योजनाओं की जाँच करने के बाद देखा गया कि नदियों की सुरंगों के समाप्त होने के बाद निचले भागों में पानी नहीं था और वे बिलकुल सूखे पड़े थे। कहीं कुछ बूदें रिसती दिखाई दे रही थीं। जो वातावरण को बनाए रखने लायक नहीं थी। नदियों से रिसकर जो पानी भूमितल में जमा होता था वह भी समाप्ति पर था। बिना सोचे-समझे राज्य सरकार नदियों पर जो अंधाधुंध जल-विद्युत योजनाएं बना रही थी उनका मिला-जुला नतीजा वातावरण के लिए घातक था। अभी 42 जल-विद्युत परियोजनाएं कार्य कर रही थीं, 203 और या तो बन रही थीं या तैयारी में थी। बहुत सारी अन्य विचाराधीन थी। This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy. OK वर्ल्ड बैंक के आंकड़ें मोदी सरकार के इस दावे को धत्ता बताते हैं जो जन धन योजना को वित्तीय समावेशन के क्षेत्र में एक क्रांतिकारी कदम बताता है. Ceiling Fans तुला जुलाई से 200 रुपए महीने में बिल लावारिस पशुओं से मुक्त नहीं हुआ पंचकूला, चादगोठिया पहुंचे कोर्ट जन सेवा जागरूक मंच अध्यक्ष, आम आदमी पार्टी युवा मोर्चा महानगर अध्यक्ष FOLLOW (110) Copyright ©  2017  Bennett Coleman & Co. Ltd. All rights reserved. For reprint rights: Times Syndication Service एटक नेता सिंदरी एम आइ एस September, 2016  National News प्रदीप कुमार उर्फ रोशन महतो Lifestyle Tips Weird Stories राजस्थान पी.सी.एस. नई बिजली दरों की हुई घोषणा (प्रतीकात्मक फोटो) दरीदा पंचायत मुखिया ‘तेरे मीठे आलिंगन से मैं मिठास हो जाऊंगा...’ Motorola P30 हुआ लॉन्च, जानें इस स्मार्टफोन में क्या है खास इस पोस्ट को शेयर करें Google+ Uttar Pradesh Scheme Copyright © 2018 Living Media India Limited. For reprint rights: Syndications Today. Best Water Heaters/geysers in India पीसांगन| नसीराबादविधानसभा के ग्राम रामसर की ढाणी में विद्युत योजना के 4लाख रुपये स्वीकृत किये। अजमेर... प्रश्नपत्र IV विद्युत विभाग की इन तीन योजनाओं में खर्च हो रहे करोड़ों, लेकिन गति नहीं पकड़ पा रहा काम कृपया क्लिक करके, होम पेज पर वापस जाइए! मीटर निरंतर अमेरिका और चीन के बीच... SMARTPHONE घ) शारीरिक छेड़छाड़ स्विच प्रोग्राम (अंग्रेजी)   Previous StoryReduce Power: RBI गवर्नर की पावर होगी कम, अब MPC तय करेगी नीतिगत दरें Next StoryEPFO के लिए UAN जरूरी, जानिए इससे जुड़ी 3 अहम बातें   अल्मोड़ा By Hussain Kanchwala on January 5, 2018 होम | दिल्ली-एनसीआर | 8,888SubscribersSubscribe देवघर : बाबा नगरी से भी जुड़ी हैं अटल बिहारी... और भी देखें BloombergQuint पात्र उपभोक्ता Lucknow News से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए NBT के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें 428 Views Category जब देशभर से आए वीआईपी चार्टर्ड प्लेन से भर गया IGI पांचवां सवाल –  भारत सरकार का पहले का कार्यक्रम ’24×7 पावर फॉर ऑल’ के समान ही उद्देश्य है। यह कैसे इस कार्यक्रम से अलग है? नया हरियाणा : 11 अगस्त 2018 गया केरल के बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आगे आया UAE, शेख खलीफा ने दिए अहम निर्देश फिरोजाबाद के लोहामंडी इलाके में तनाव, ये है वजह nscindore जल योद्धा प्रमोशन में आरक्षण: सुप्रीम कोर्ट में आज की कार्यवाही का विवरण | EMPLOYEE NEWS सीएम ने किया ट्विट बिजली कंपनी 23 Views आत्मघाती हमलावर ने छात्रों को बनाया निशाना , 48 की मौत Aquarius (कुंभ) ट्रांसमिशन वर्क्स के कार्यकारी सारांश जहानाबाद चीन में एक आदमी के कान में रहते थे 26 तिलचट्टे 07-Apr-16 09:40 अन्‍य राज्‍य Copyright © 2018 Mahanagar Times. All Rights Reserved. Economy मोतिहारी सिनेमा संगम इंटरप्राइजेज कटसमसांडी दिल्ली में ठोस कचरा गंभीर समस्या, SC ने कहा- एक कमेटी गठित करें एलजी by: Mithilesh Dubey सैनिकों के त्याग, तपस्या और बलिदान से ही सुरक्षित है देश : शिवराज सिंह इमरान के शपथ ग्रहण समारोह में सबसे 'ताकतवर' शख्स ने सिद्धू का किया स्वागत VIDEO: जब मूसलाधार बारिश ने कांवड़ियों की सांसें रोक दी मदर सामान्य अध्ययन अभ्यास प्रश्न Money Today संपादकीय: बेलगाम भीड़तंत्र संशोधित चार्ज के मुताबिक, नई दरें 2018-19 के लिए हैं. अब 0-200 यूनिट बिजली खर्च करने वाले को 3 रुपए प्रति यूनिट के हिसाब से बिजली बिल देना होगा. यह पहले के मुकाबले 1 रुपए कम हो गया है. हरियाणा २-योजना में 1000 वॉट तक बिजली उपयोग करने वाले उपभोक्ता शामिल होंगे। इनमें एसी व विद्युत हीटर चलाने वाले उपभोक्ता नहीं है। जम्मू-कश्मीर आरएसओपी फार्मों की सूची सस्ते पावर प्लांट : अभी दिल्ली को करीब 65 पर्सेंट पावर एनटीपीसी से मिलती है। एनटीपीसी के दादरी 1, दादरी 2, अरावली और बदरपुर पावर प्लांट मेन हैं। ये चारों प्लांट ही एनटीपीसी के सबसे महंगे पावर प्लॉटों में से हैं। इनसे महंगी बिजली मिलती है और डिस्कॉम को वह खर्च उपभोक्ताओं से ही लेना पड़ता है। अगर दिल्ली को सिंगरौली, रिहानहिंद जैसे सस्ते पावर प्लांट से बिजली मिले तो दिल्ली में बिजली के रेट कम हो सकते हैं। लेकिन इसमें पावर मिनिस्ट्री की मदद चाहिए। अटल बिहारी वाजपेयी: एक राजनेता का राजनीतिक सफर हापुड़ अल्मोड़ा प्रॉपर्टी बाइंग टिप्स छत्तीसगढ़Sat, 18 Aug 2018 06:33 AM (IST) मुखिया, पिंड्राजोरा पंचायत आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें बिजली बदलें - बिजनेस बिजली बिजली बदलें - बिजली बदलें बिजली बदलें - विद्युत कंपनी आज बदलें
Legal | Sitemap