पराशर ऋषि की तपभूमि है मंडी की पराशर झील, देखें तस्वीरें 2:27 साहेबगंज ई-शासन ऑनलाईन सेवाएं कृष्ण प्रमाणिक प्रोजेक्ट रिव्‍यू पानी की टंकी पर चढ़ा युवक, आत्मदाह की चेतावनी 139.02 जेटली ने मोदी से हाथ क्यों नहीं मिलाया? next › बाल स्वास्थ्य मॉक इंटरव्यू बीजेपी शासित राज्यों के सरकारी कार्यक्रम रद्द, दिल्ली आ रहे हैं सभी CM प्रियंका चोपड़ा ने दिखाई खास अंगूठी, कीमत और खूबियां जानकार हो सकते हैं हैरान.. पटना गोड‍्डा ਪੰਜਾਬੀ Delhi rooftop solar cheaper than electricity bill! केस्को को अंतरिम आदेश का मिला लाभ होम लोनः भविष्य की जरूरत भी करे पूरी एलसीडी डिस्प्ले एकल चरण इलेक्ट्रिक मीटर, छेड़छाड़ प्रूफ प्रीपेड पावर मीटर SHANTA KUMAR प्रत्येक जेई को कनेक्शन काटने का मिला लक्ष्य घरेलू (ग्रामीण) डीएस वन(0-200 यूनिट) 1.60  4.75 Delhi rooftop solar cheaper than electricity bill! 1-100        4.27 रुपए    ¯6.15 रुपए पटना: स्थानीय लोगों ने दो अर्ध विक्षिप्त महिलाओं को किया पुलिस... शौरभ कुमार सिंह कैनेडियन एक्सचेंज कैविर्टएक्स कनाडा भर में बिटकॉइन एटीएम लॉन्च करने के लिए भारत में न्‍यूक्लियर एनर्जी की धीमी रफ्तार की मुख्‍य वजह विदेशी रिएक्‍टर निर्माता कंपनियों की कम रुचि है। यह कंपनियां उस कानून का विरोध कर रही हैं, जो किसी दुर्घटना के समय मैन्‍यूफैक्‍चरर्स को जिम्‍मेदार ठहराता है। सितंबर 2015 में जनरल इलेक्ट्रिक ने लायबिलटी कानून की अनिश्‍चितता के चलते भारत के न्‍यूक्लियर एनर्जी सेक्‍टर में निवेश न करने का फैसला लिया। जनरल इलेक्ट्रिक के सीईओ जेफ इमेल्‍ट ने कहा था कि दुनिया में एक स्‍थापित एक लायबिलटी व्‍यवस्‍था है, इसे स्‍वीकार्यता मिली है और इसे अपनाया गया है। मैं अपनी कंपनी को जोखिम में नहीं डाल सकता। भारत लायबिलटी पर दोबारा नयिम नहीं बना सकता। संपर्क Page Not Found 404 Error National News Hindi(देश) प्रियंका को निक ने पहनाई इतनी महंगी अंगूठी की कीमत जानकर आप दंग रह जाएंगे वार्षिक अचल संपत्ति रिटर्न अक्षय ऊर्जा किस वजह से गोलवलकर ने थपथपाई थी युवा अटल की पीठ Ireland 51210 Vodafone, O2 विशेष राज्यों के लिए केंद्र सरकार योजना का 85% अनुदान देगी, जबकि राज्यों को अपने पास से केवल 5% धन लगाना होगा और शेष 10% बैंकों से कर्ज़ लेना होगा। हाईकोर्ट ने यह फैसला इंडिपेंडेंट पावर प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया की याचिका पर दिया है। कोर्ट ने वित्त सचिव से पावर प्रोड्यूसर्स की शिकायतें सुनने को कहा है। अदालत ने वित्त सचिव से इन दिक्कतों के समाधान की संभावना तलाशने को भी कहा है। 31 दिसम्बर तक सभी घरों में पहुंचेगी बिजली Englishमराठीবাংলাதமிழ்മലയാളംગુજરાતીతెలుగుಕನ್ನಡ परावैद्युत Archives English चण्डीगढ़, 14 जून- हरियाणा सरकार ने राज्य में सूक्ष्म और लघु उद्यमों को सस्ती बिजली आपूर्ति प्रदान करने के लिए ‘पावर टैरिफ सब्सिडी योजना’ अधिसूचित की है। इस योजना के तहत, ‘सी’ और ‘डी’ श्रेणी खंडों में सूक्ष्म और लघु उद्यमों को बिजली कनेक्शन जारी करने की तिथि से तीन वर्ष के लिए दो रुपये प्रति यूनिट की पावर टैरिफ सब्सिडी प्रदान की जाएगी। राष्ट्र में थर्मल ऊर्जा उत्पादन 344 गीगावाट व अक्षय ऊर्जा क्षमता 70 गीगावाट है. इसमें अधिकतम मांग वाले समय में उपलब्धता 173 गीगावाट रहती है. ऊर्जा खरीद समझौता नहीं होने के कारण एक एरिया से दूसरे एरिया में बिजली की आपूर्ति संभव नहीं हो पाती है. ऐसे में महंगी बिजली खरीदनी पड़ती है, जिसका सीधा प्रभाव उपभोक्ता पर भी पड़ता है . लेटेस्ट न्यूज़ 2:27 मोदी द्वारा ज़ोर-शोर से शुरू की गईं विभिन्न योजनाओं की ज़मीनी हक़ीक़त क्या है? दैनिक भास्कर ऐप के साथ हमेशा अपडेट रहें। हिंदी में ताजा समाचार पढ़ने के लिए ऐप डाउनलोड करें केरल बाढ़: अब तक 167 की मौत, सीएम विजयन ने दी जानकारी, 13 जिलों में रेड अलर्ट दर्शनीय स्थल लखीमपुर खीरी ये तकनीक इस तरह काम करता है कि गुफा के अंदर एक खाली कमरे में हवा को अतिरिक्त बिजली की मदद से कंप्रेस किया जाता है. जरूरत पड़ने पर कंप्रेस की हुई हवा को बाहर छोड़ने पर वह इलेक्ट्रिक जेनरेटर को चला सकती है और बिजली पैदा कर सकती है. दुनिया में बिजली बनाने के तो कई साधन हैं लेकिन उन्हें जमा रखने की तकनीक खोजी जा रही है. पवन बिजली हवा चलने पर ही काम करती है और सौर बिजली धूप रहने पर. अब तक पंप स्टोरेज प्लांट बिजली के उत्पादन में उतार चढ़ाव की भरपाई करती रही है. लेकिन कंप्रेस्ड एयर स्टोरेज के अपने फायदे हैं. आर्यन बोरवेल भीलवाड़ा अंशांकन प्रयोगशाला पहले भी सस्ती हुई थी बिजली Replying to @JarnailSinghAAP @AAPDelhi and 2 others परंपरा एवं संस्कृति Saharsa अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त भविष्यवक्ता एवं वाममार्गी तांत्रिक, तंत्र सम्राट डबल गोल्ड मेडलिस्ट, स् बी) एंटी टपर सुविधा बजटीय उपबंध Live Cricket Score Sun, 12 Aug 2018 02:30 PM IST 02018-05-28T16:54:50 भारत के पीसी मार्केट में 28 फीसदी की ग्रोथ, अल्ट्रा स्लिम नोटबुक ने बढ़ाई मांग 51 mins अंक राशि Previous articleपत्नी का इलाज कराने जा रहे बाइक चालक की सड़क हादसे में दर्दनाक मौत 50 हर्ट्ज / 60Hz रेगुलेशन्स हिंदी Switch to ENGLISH मीडिया प्रभारी, भाजपा Terms कुल्लू के बाजार रहे बंद, व्यापारियों ने दी अटलजी को श्रद्धांजलि ई एम आई / ई एम सी प्रयोगशाला 51-100              2.90   /  छत्तीसगढ़ Chief Minister AAP सांकेतिक फोटो। धनबाद : प्रेस क्लब में मिले 21 रसेल वाइपर सांप, इनका काटा पानी भी नहीं... अनुमान है कि हर घरेलू उपभोक्ता के बिल में करीब 100 से 200 रुपए प्रति माह की बढ़ोतरी होनी है। यहाँ तक कि सबसे कम खपत करने वाले उपभोक्ताओं के वर्ग में भी 20 पैसे प्रति यूनिट की बढ़ोतरी कर दी गई है। दूसरे वर्ग यानी 51 से 100 यूनिट हर माह खर्च करने वालों को 35 पैसे प्रति यूनिट ज्यादा देने होंगे। 101 से 300 यूनिट तक खर्च करने वालों को बिजली 40 पैसे प्रति यूनिट महंगी पड़ेगी। 300 यूनिट से ज्यादा खपत वाले घरेलू श्रेणी में भी 20 पैसे प्रति यूनिट के दाम बढ़ाए हैं। सस्ता बिजली डलास TX - ह्यूस्टन में सस्ता बिजली कंपनियों सस्ता बिजली डलास TX - टेक्सास एनर्जी सस्ता बिजली डलास TX - बेस्ट पावर कंपनी
Legal | Sitemap