LIVE: केरल में बाढ़ का कहर, 12 जिलों में हाई अलर्ट, पीएम मोदी ने ली बैठक @AamAadmiParty जनता को वेवकूफ बनाना बुस यही काम बाकि रह गया है बिजली कंपनियो का #DiscomFacts छत्तीसगढ़ Weather लोकसेवा ग्यारन्टी/ सीएम हेल्पलाइन Persian فارسی अटल बिहारी वाजपेई के निधन पर शोक में डूबा शहर कई पार्टियों ने शोक सभा का आयोजन कर दिया श्रद्धांजलि Like मिथुन बिज़नेस न्यूज़ MURFREESBORO RESIDENTS FOR BLACKMAN PARK ख़बरें खोजें ओपिनियन Haiti 40404 Digicel, Voila 200 बड़े ऋण खातों की निगरानी करेगा आरबीआई वीडियो: वाजपेयी को श्रद्धांजलि देने आए सीकर सांसद स्वामी अग्निवेश के… परामर्श सेवाएँ मनमोहन सिंह के कार्यकाल में सबसे तेज रही आर्थिक वृद्धि दर, रिपोर्ट में हुआ खुलासा Big News Leo (सिंह) 6. ट्रंप से मुलाकात के लिए उत्तर कोरिया से चाइना होते हुए सिंगापुर पहुंचे किम जोंग नियामक आयोग के सचिव पीएन सिंह ने कहा कि विद्युत वितरण कंपनी ने वर्ष 2018-19 के लिए औसत लागत 6.44 पैसा के मुताबिक 120 करोड़ की राजस्व कमी बताई थी। आयोग ने परीक्षण के बाद राजस्व कमी के स्थान पर 531 करोड़ रुपये के अधिक राजस्व की गणना को मान्य किया। आयोग ने बिजली कंपनी की मांग 6.44 पैसे की जगह 6.20 पैसे की दर को मान्य किया है। इस पोस्ट को शेयर करें Twitter 2499916899खरीदे 6 7 8 9 10 11 12 आठवां सवाल –  राज्यों को धन के आवंटन के लिए क्या मानदंड है? बिज़नेस न्यूज़ अटल जी द्वारा कही गयी 10 बातें जिनके आगे दुनिया नतमस्तक हो गयी फिक्स चार्ज में वृद्धि नहीं, समय पर बिल देने पर डेढ़ फीसदी की छूट कुटीर ज्योति 6.08 3.58 2.50 3.44 3.17 Contact us: [email protected] Fans राज्य सरकार की नीति में उल्लेख नहीं था कि योजनाओं को नदियों का पानी प्रयोग करने के बाद कितना नीचे की धारा में छोड़ना चाहिए। पानी सुरंगों में डालने तथा प्रयोग करने के बाद नीचे नदी की पुरानी घाटी में बहाव कितना रहेगा ? पाँच योजनाओं की जाँच करने के बाद देखा गया कि नदियों की सुरंगों के समाप्त होने के बाद निचले भागों में पानी नहीं था और वे बिलकुल सूखे पड़े थे। कहीं कुछ बूदें रिसती दिखाई दे रही थीं। जो वातावरण को बनाए रखने लायक नहीं थी। नदियों से रिसकर जो पानी भूमितल में जमा होता था वह भी समाप्ति पर था। बिना सोचे-समझे राज्य सरकार नदियों पर जो अंधाधुंध जल-विद्युत योजनाएं बना रही थी उनका मिला-जुला नतीजा वातावरण के लिए घातक था। अभी 42 जल-विद्युत परियोजनाएं कार्य कर रही थीं, 203 और या तो बन रही थीं या तैयारी में थी। बहुत सारी अन्य विचाराधीन थी। Starry Talks स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर समस्त झारखंड और देशवासियो को शुभकामनाएं Register Free Login English खाने पीने के शौकीन अटल बिहारी वाजपेयी को मिल-बांट कर खाने में आता था मजा Time: 2018-08-18T05:25:45Z रिव्यु CompareIndia जामताडा नल जल योजना के बिजली बिल नहीं भरे हों तो कनेक्शन न काटें: मिश्र BY नूर मोहम्मद ON 05/06/2018 • Hindi NewsState News In HindiPunjab And Haryana News In HindiFaridabad News In HindiElectricity Department's Surcharge Apology Scheme For Government Defaulter वॉशिंग मशीन, बाइक और फ्रिज जितने का मौका Image Source: Google गौरीगंज सरन Hindi News »Bihar »Patna» बिजली कंपनी में 2000 पदों पर होगी बहाली Jharkhand News in Hindi नदी घाटी/बाढ उन्मुख नदी योजना पुलिस ने अपहृत डॉक्टर पुत्र को किया बरामद, लोजपा नेता… Block title पोषाहार कन्नौज मंत्री श्री जैन ने हासामपुरा में स्व.दिगंबरराव तिजारे स्टेडियम का लोकार्पण किया, विधायक ट्रॉफी 2018 का पुरस्कार वितरण भी किया 15/08/2018 2011 के दौरान लेने के लिए अनुमोदित एनपीपी Google News in Hindi सबसे ज्‍यादा पढ़ी गई मोहन भागवत बोले- 'अटल चले गए विश्वास नहीं हो रहा' 0.2% आईबी कम रकम वाले लोन के मामले में बढ़ते तनाव की वजहों पर मित्तल ने कहा है, ‘बढ़ती हुई प्रतिस्पर्धा से इस पर फर्क पड़ेगा. परिणामस्वरूप लोन देने के मापदंडों में गिरावट आएगी और स्व-नियोजित क्षेत्रों में अधिक मात्रा में लोन दिए जाएंगे.” पाकिस्तान ने ट्विटर को बंद करने की धमकी दी बिजली और ऊर्जा प्रोफ़ेसर अरुण कुमार का मानना है कि राज्य इस पर सहमत इसलिए नहीं थे क्योंकि इन चार वस्तुओं से उन्हें भारी राजस्व मिलता है. उन्होंने कहा कि राज्य नहीं चाहते थे कि इतने बड़े राजस्व को वो अपने हाथ से जाने दें. ऐसे में केंद्र सरकार के पास कोई विकल्प नहीं था. Gold Price ३. जिनके यहां मीटर नहीं है वहां मीटर लगेंगे और रीडिंग करते हुए बिल की गणना की जाएगी। Safalta 09/07/2010 - 11:38 रामपुर 4- आईसीएसए (इंडिया) लिमिटेड, हैदराबाद मीन यूपीएससी - मुख्य परीक्षा पाठ्यक्रम अभिगम्यता विवरण राष्ट्रीय खबरें Shadik - August 16, 2018 शनि देव की पूजा के ये 4 आसान उपाय खोल देते हैं किस्मत का दरवाजा 41 mins अंटार्टिका में बर्फ से आता है खून! Bollywood News in Hindi राज्य विद्युत उपभोक्ता परिषद के अध्यक्ष अवधेश कुमार वर्मा ने लाइन लॉस का पूरा भार बिजली उपभोक्ताओं पर न डालने की वकालत की। उन्होंने ओडिशा का उदाहरण देते हुए कहा कि बिजली कंपनियों के घाटे के आधार पर जो रेग्युलेटरी सरचार्ज लगाया जाता है। उसका 50 प्रतिशत हिस्सा उपभोक्ताओं और 50 प्रतिशत हिस्सा बिजली कंपनियों को देना चाहिए। ताकि बिजली कंपनियों की लापरवाही का खामियाजा ईमानदार उपभोक्ताओं पर न पड़े। लोन लेने में मदद करता है 'क्रेडिट स्कोर',जानिए हर जरूरी बात Tweet with a location प्रिंट करें यह पेज प्रिंट करें   1 2 3 4 5 कॉर्पोरेट Follow our भारत section for more stories. 21st commonwealth games gold coast australia 2018 (फोटो: Bloombergquint) ENGLISH बीबीसी से संपर्क स्टार्टअप इंडिया - एक स्टार्टअप क्रांति की शुरुआत चंड़ीगढ़ स्वतंत्रता दिवस: सीएम शिवराज सिंह भाषण के 15 प्रमुख बिन्दु | MP NEWS 71 साल पहले ऐसे मना था देश का पहला स्‍वतंत्रता... English (US) S M L एक 'अटल' प्रेम कथा: इश्क, इश्क ही रहा उसे रिश्तों का इल्जाम ना मिला... सस्ता ऊर्जा - गैस की कीमतों की तुलना करें सस्ता ऊर्जा - व्यापार बिजली आपूर्तिकर्ता सस्ता ऊर्जा - विद्युत प्रदाता बदलें
Legal | Sitemap