business1 day ago विविधिक्रत ऋण योजना   अकृषि ऋण योजना कुल खपत का 17% हिस्सा  सीवान CM JAIRAM MEET KHALI मछली पालन द्रव परावैद्युत प्रयोगशाला पढ़ेः भाजपा शासित छत्तीसगढ़ में पीने के पानी का संकट गहराया भू-जल संवर्धन योजना भीलवाड़ा नॉनस्टॉप 100 Social Networks छत्तीसगढ़ से बेहतर कानपुर व बिहार की कंपनी Free bijapi cancos kaise milega प्रदेश की बिजली वितरण निगमों में अब भी बिजली छीजत का ग्राफ 25 से 35 फीसदी तक बना हुआ है वहीं बिजली चोरी मामले में कई जिलों में छीजत 35 फीसदी तक रही है। राज्य सरकार के निर्देशों के बावजूद बिजली कंपनियां चोरी व छीजत रोकने में प्रभावी कार्रवाई करने में नाकाम रही हैं। इसके उलट बिजली कंपनियों ने चोरी छीजत पर लगाम कसने के लिए संबंधित क्षेत्र के अभियंताओं के वेतन भत्ते में कटौती की तलवार भी लटकाई लेकिन नतीजा सिफर रहा है।  रियल एस्टेट इंद्रधनुष For Students Skip to main content दूसरा टी-20 अंतरराष्ट्रीय मीटर वजन क्विज सक्षम प्राधिकारी की स्वीकृति के बिना उद्यम को निर्दिष्ट किए गए दस्तावेजों अलावा कोई अतिरिक्त दस्तावेज जमा करने की आवश्यकता नहीं होगी। इस प्रकार फाइल किए गए दावों को प्रशासनिक सचिव, उद्योग और वाणिज्य विभाग के आदेशों पर फिर से खोला जा सकता है, बशर्ते ऐसे अनुरोध नामित सक्षम प्राधिकारी द्वारा दावे को अस्वीकार किए जाने की तिथि से 30 दिनों की अवधि के भीतर प्राप्त हों। (Hindi News from Navbharat Times , TIL Network) आईपीओ CABINET MEETING Copyright © 2017 MPUVN . All rights reserved | Designed By Ramrajtech Bihar ग्रामीण क्षेत्रों में 2 से 5 किलोवाट तक कनेक्शन लेने वालों को 60 रुपये प्रति किलोवाट जमा करना पड़ता था, जबकि शहरी क्षेत्रों में 2 किलोवाट से ऊपर और 5 किलोवाट से कम के कनेक्शन के लिए 150 रुपये प्रति किलोवाट जमा कराया जाता था।  पीएलसी / आरएफ संचार के साथ एसटीएस सिंगल फेज पावर मीटर प्रीपेमेंट कीपैड विद्युत मीटर नई बिजली दरों की हुई घोषणा (प्रतीकात्मक फोटो) दिल्ली सर्राफा बाजार बंद ऊर्जा संरक्षण Joined August 2010 नयी दर में इलेक्ट्रिकल व्हीकल का भी प्रावधान किया गया है. घर या ऑफिस  में इलेक्ट्रिकल व्हीकल चार्ज करने के लिए कोई दर नहीं है. लेकिन, पैसे  लेकर इलेक्ट्रिकल व्हीकल चार्ज करने पर बिजली का इस्तेमाल व्यावसायिक  श्रेणी के दायरे में आयेगा. राज्य बिजली कम्पनियों की प्रदर्शन रिपोर्ट गर्मी के दिनों में एस्सेल की बिजली की समस्या बढ़ जाती है, ये समस्या गायघाट का नही है बल्कि एस्सेल कम्पनी की बिजली जँहा-जँहा है लोगो का हाल कुछ ऐसा ही है. गायघाट के लोग इतने आक्रोशित थे कि वो NH57 से जाम हटाने को मान ही नही रहे थे. सब बस एक ही नारा लगा रखे कि एस्सेल हटाओ बिजली लाओ. मौके पे गायघाट थानाध्यक्ष और गायघाट अंचल अधिकारी ने लोगो को आश्वासन दिया कि जल्द ही बिजली की समस्याओं को दूर किया जायेगा. अधिकारी की बात सुन लोगो को मिला शुकुन फिर दरभंगा-मुज़फ़्फ़रपुर राष्ट्रीय मार्ग से जाम को हटा आवागमन शुरू कराया गया. More From Shivpuri विद्युत संधारित्र भागलपुर के पीरपैंती व लखीसराय के कजरा में 1320-1320 मेगावाट का थर्मल पावर प्लांट लगना था लेकिन अब राज्य सरकार ने दोनों जगहों पर सोलर पावर प्लांट लगाने का निर्णय लिया है.राज्य कैबिनेट ने इसे मंजूरी भी दे दी है. दोनों जगहों पर ढाई-ढाई सौ मेगावाट का सोलर पावर प्लांट लगना है.  मछली पालन एशियन गेम्स में नहीं खेलेंगी वेटलिफ्टर मीराबाई चानू उपलब्‍ध परीक्षण सुविधाऍं आई.एम.एस. Windows पूव मंत्री सह बिधायक गोमिया बजटीय उपबंध Sign up and continue using Molitics वैसे तो उत्तर प्रदेश के करोड़ों शहरी उपभोक्तागण पहले से ही बिजली की घोर अनियमित सप्लाई, खऱाब ट्रांसफारमर के कारण लगातार विद्युत सप्लाई में बाधा आदि की गम्भीर समस्या से काफी पहले से ही झेलते आ रहे हैं, जिस कारण लगभग हर दिन प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में इसके खि़लाफ  धरना-प्रदर्शन व बिजली आफि स के घेराव की ख़बरें आती रहती हैं और इस कारण उन्हें पुलिस का डंडा तक भी खाना पड़ता है। ऐसे संकटग्रस्त उपभोक्ताओं पर मंहगी बिजली का तगड़ा झटका देना प्रदेश सपा सरकार की असंवेदनशीलता व विफ लताओं का पर्दाफाश करता है।  शेयर पैनल को बंद करें अदरक (Ginger) ग्रामीण क्षेत्रों में कृषि एवं गैर कृषि उपभोक्ताओं की आपूर्ति व सुविधा हेतु कृषि और गैर कृषि फीडरों को अलग-अलग बांटकर बिजली पहुंचाने। ग्रामीण क्षेत्रों में ट्रांसफार्मर, फीडरों का सुदृढ़ीकरण। राजीव गांधी विद्युतीकरण योजना के तहत पहले से ही मंजूर माइक्रो ग्रिड और ऑफ ग्रिड वितरण नेटवर्क एवं ग्रामीण विद्युतीकरण परियोजनाओं को पूरा करने सहित नए उपकेंद्र, लाइन विस्तार, उपकेंद्रों के पावर ट्रांसफार्मर बनाने का कार्य होना है। इसके लिए संभाग में करीब 96 करोड़ रुपए खर्च होने हैं। नागरिक चार्टर मिशन 2017-18: जानिये- किसने कहा था 'पाकिस्तान में भी चुनाव लड़ते तो जीत जाते अटल' समेत समस्त प्रदेश वासियों को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं पहुँच क्षमता बयान प्रदेश में सरल बिजली योजना का अब तक करीब 43 लाख हितग्राहियों को लाभ मिलना शुरू हो गया है। इस योजना के तहत पंजीकृत श्रमिकों को 200 रुपये प्रतिमाह फ्लैट रेट पर बिजली दी जा रही है। इनके बकाया बिजली बिलों को भी माफ़ किया जा रहा है। विधानसभा को देखते हुए लाई गई इस योजना को लेकर यह अंदेशा जताया जा रहा है कि बिजली वितरण कंपनियों के बजट पर प्रभाव पड़ेगा। इसका खामियाजा आम उपभोक्ताओं को भुगतना पड़ेगा, बिजली की दरों में वृद्धि होगी और लोगों का बिजली बिल बढ़ जायेगा। नागरिक उपभोक्ता मार्गदर्शक मंच के डॉ. पीजी नाजपाडें और डॉ. एमए खान ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की गई याचिका में यह तर्क दिया गया है कि वर्ष 2003 में भी इसी तरह मुफ्त बिजली देने के खिलाफ हाईकोर्ट की शरण ली गई थी। तब कोर्ट ने तत्कालीन सरकार को 100 करोड़ रुपये चुकाने का आदेश दिया था। Go to Home >> नेवीगेशन वीडियो परिचय अलका कुमारी कार्यपालक पदाधिकारी नगर पर्षद चक्रधरपुर jabalpur news in hindi mp. patrika. com भारतखेल दिल्लीमूवी-मस्तीNBT ब्लॉगमुंबईजोक्स अपना ब्लॉगलखनऊटेकघर-परिवारअन्य शहरऑटोफोटो धमालदुनियाबिज़नस ETसंडे NBT राशिफल शुभ यात्राविचारNBT मोबाइलNBT ऐप FROPKY आरा पिछड़ा वर्ग कल्याण कार्तिक और नायरा की जिंदगी में एक नए रिश्तेदार की होंगी… सिरफिरे ने ऑफिसर कालोनी में युवती को चाकू से गोदा, मोबाइल लेकर हुआ... सिविल सेवा परीक्षा : By Kamlesh Bhatt 8 आईपीओ ४- ग्रामीण क्षेत्र में 500 वॉट तक के भार वाले उपभोक्ताओं को विद्युत नियामक आयोग द्वारा निर्धारित श्रेणी के अनुसार टैरिफ की गणना होगी। केरल: बाढ़-बारिश से 3 लाख से ज्यादा बेघर, मई से अब तक 324 की मौत; मोदी कुछ देर में करेंगे हवाई सर्वे Just Now We care एमपी, छग और राजस्थान के चुनाव टालने पर विचार | ELECTION NEWS पंचांग-पुराण जब अटल जी ने भाई की लिखी पहली कविता पढ़ी और इनाम सौंप दिया भाभी को 2 जुलाई 2017 कैमूर May 3, 2018 डी के श्रीवास्तव बिजली बनाने के कई तरीके हैं. कोयले से बिजली बनती है, हवा से, सूरज की गर्मी से. हम ढेर सारी बिजली बना तो लें लेकिन बना कर उसे स्टोर कहां करें? क्या पहाड़ों की गुफाओं में बिजली को जमा किया जा सकता है? August 18,2018 10:27:33 AM भारत से बांग्लादेश को किये जाने वाले विद्युत निर्यात में उस समय वृद्धि हुई, जब सितम्बर, 2013 में 400 केवी क्षमता का पहला सीमापार इंटरकनेक्शन चालू हुआ। इसी तरह भारत में सुर्जामणिनगर (त्रिपुरा) और बांग्लादेश में दक्षिण कोमिल्ला के बीच दूसरा सीमापार इंटर-कनेक्शन चालू होने के बाद भारत के निर्यात में और बढ़ोतरी हुई। 132 केवी काटिया (बिहार)-कुसाहा (नेपाल) और 132 केवी रक्सौल (बिहार)-पार्वाणीपुर (नेपाल) सीमापार इंटरकनेक्शन चालू हो जाने के बाद नेपाल को किये जाने वाले विद्युत निर्यात में करीब 145 मेगावाट की वृद्धि होने का अनुमान है। Saved searches VIDEO: पुष्कर में पाक नोट मिलने के मामले में होगी उच्च स्तरीय जांच *99# banking codes 2017 2018 2019 Aadhaar Card Aadhaar Card Correction Online Apply Online Bihar Central Govt Scheme Chhattisgarh Download Eaadhaar Card Generic Medicine Government Schemes Govt Scheme health insurance How to Download Aadhaar Card India Karnataka Kerala LIC India Scheme Madhya Pradesh MP Bhavantar Bhugtan Yojana Muslim Girls Marriage Scheme Online form Online Registration Online Registration Form PMAY PMAY Online Application Pradhan Mantri Awas Yojana Punjab Rajasthan Rajasthan SSO ID Registration Reliance Jio Reliance Jio Free Phone Rojgar Mela Shala Siddhi Karyakram Swasthya Bima Yojna Scheme Swayam Free Online Course Swayam Scheme Swayam Yojana UP Uttar Pradesh Uttar Pradesh Online Property Registration पंजाब जॉब मेला 2018 मध्य प्रदेश बेरोजगारी भत्ता योजना ऑनलाइन आवेदन फॉर्म बिजली स्विच करें - रात में सस्ता बिजली बिजली स्विच करें - बिजली कंपनियों की तुलना करें बिजली स्विच करें - विद्युत प्रदाता
Legal | Sitemap