सुरक्षा उपकरण: एमसीबी कॅरियर-जॉब्स जिला भाजपा महामंत्री एससी मोर्चा इंडस्ट्री 17 पौड़ी दृष्टि मैगज़ीन 28 जुलाई 2018 खास बात यह है कि नवंबर में यूपीसीएल ने नए टैरिफ का जो प्रस्ताव भेजा था, उसके अनुसार बिजली दरें 15 फीसदी तक बढ़ाई जानी थी. करीब तीन महीने तक प्रदेश में जनसुनवाई के बाद आयोग ने बिजली की नई दरों को मंज़ूरी दे दी है. नया हरियाणा : 11 अगस्त 2018 X सामान्य परिचय | 'दृष्टि द विज़न' संस्थान का परिचय | दृष्टि पब्लिकेशन्स | दृष्टि मीडिया | प्रबंध निदेशक | टीम दृष्टि | इंफ्रास्ट्रक्चर लोकसभा टीवी डिस्कशंस Complaint Redressal English summary महासचिव झारखंड प्रदेश तांती स्वासी कल्याण समिति गौरतलब है कि ऊर्जा मंत्रालय इस पर तैयार किए गए मसौदे पर विशेषज्ञों से अंतिम चर्चा कर रहा है। माना जा रहा है कि जल्द वह इस पर आगे कदम बढ़ाएगा। प्रायोगिक लाइन 308 Views अन्य खबरें हमार॓ साथ काम करें संबधित अधिकारी से शिकायत करें…. 0:55 एपीडीआरपी कोरे फार्मेट विंडएनर्जी एक्सपर्ट ओपी तनेजा कहते हैं कि इससे पहले भी विंड एनर्जी का रेट 3.46 रुपए प्रति यूनिट से घटकर 2.64 रुपए प्रति यूनिट हो गया था। फिर भी बिजली कंपनियों ने बिजली खरीद में रुचि नहीं ली। ऑपरेटिंग वोल्ट रेंज डीईआरसी चेयरमैन पी. डी. सुधाकर ने कहा कि अभी बिजली कंपनियां सस्ती बिजली खरीदने के कोई गंभीर प्रयास नहीं करती। हम ऐसा सिस्टम बनाना चाहते हैं कि अगर बिजली कंपनियां खर्च कम करती हैं तो उसका जो फायदा होगा उसका कुछ हिस्सा कंपनी को मिलेगा। वह एक तरह से बिजली कंपनी के लिए इंसेंटिव होगा। अभी ऐसा कोई इंसेंटिव नहीं है। हम चाहते हैं कि ऐसा हो। अगर वह मेहनत करके खर्च कम करते हैं तो उन्हें इसका इनाम मिले और इससे कंस्यूमर को भी फायदा होगा। आप ने कहा बिजली बिलों की दरों में करो कमी शिक्षक मंच ऊर्जा-कुछ मूल बातें Podcasts & Newsletter मणिदीप शर्मा [Edited by: मोनिका गुप्ता] @manideepsharma3 कृषि एवं सिंचाई 1  5.79 4.29 1.50 4.07 1.50 विद्युत उपलब्धता में 23% वृद्धि  Google Infographics How Super-Efficient BLDC Fans Can Reduce Electricity Bills by 65% Jump to navigationJump to search केरल वार्ड पार्षद - 53 धनबाद नगर निगम 5.95             4.50 पटना,17 अप्रैल (हि.स.)। राज्य कैबिनेट की मंगलवार को यहां हुई बैठक में इस वर्ष अप्रैल से बिजली की बढ़ी हुई टैरिफ दरों में उपभोक्ताओं को सब्सिडी देकर सरकार ने दावा किया है कि बिहार की बिजली दर सभी पड़ोसी राज्यों यूपी और पश्चिम बंगाल से काफी कम है । कैबिनेट की बैठक के बाद मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने बताया कि इस वर्ष बिजली दर में सब्सिडी के कारण राज्य सरकार के खजाने पर 4137 करोड़ का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा । पिछले वर्ष 2952 करोड़ रुपये की सब्सिडी दी गयी थी. उन्होंने बताया कि सब्सिडी के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में कुटीर ज्योति योजना के तहत बिजली की दर प्रति यूनिट 2.45 रुपये पड़ेगी । पश्चिम बंगाल में यह 3.44 रुपये और यूपी में 3.39 रुपये प्रति यूनिट है । इसी तरह शहरी और ग्रामीण क्षेत्र की बिजली दरें भी पड़ोसी राज्यों से कम हैं । इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में घरेलू उपयोग और कृषि व सिंचाई के लिए बिजली दर में कोई बढ़ोतरी नहीं की गयी है । इस पर वर्तमान दर से ही बिजली बिल का भुगतान करना होगा । शहरी क्षेत्रों की बिजली दर में महज 10 पैसे प्रति यूनिट की ही बढ़ोतरी की गयी है | अब यह 5.30 रुपये प्रति यूनिट से बढ़कर 5.40 रुपये हो गयी है । मुख्य सचिव ने कहा कि बरौनी, कांटी और नवीनगर बिजलीघरों को एनटीपीसी को ट्रांसफर कर दिया गया है । इन यूनिटों से राज्य को अपने स्तर पर बिजली उत्पादन काफी महंगा पड़ रहा था । बरौनी थर्मल पॉवर स्टेशन से अभी बिजली उत्पादन में प्रति यूनिट 5.75 रुपये का खर्च आ रहा है, जबकि बाढ़ एनटीपीसी से बिजली खरीदने पर यह खर्च 4.25 पैसे प्रति यूनिट ही पड़ेगा । इस वजह से सभी बिजली उत्पादन ईकाइयों को एनटीपीसी को ही स्थानांतरित करने का निर्णय लिया गया है । इससे सरकार को 875 करोड़ रुपये सालाना की बचत होने का अनुमान है । वर्ष 2017-18 के लिए बिजली उपलब्धता करीब 27 हजार 178 मिलियन यूनिट है, जबकि 2018-19 के लिए बिजली उपलब्धता का लक्ष्य 29 हजार 403 मिलियन यूनिट निर्धारित किया गया है, जो पिछले वर्ष से 8% अधिक है । सब्सिडी के बाद बिजली दर :-कुटीर उद्योग- 2.45,घरेलू (ग्रामीण)- 3.17,घरेलू (शहरी)- 5.40,गैर-घरेलू (ग्रामीण)- 4.00,गैर-घरेलू (शहरी)- 8.25,कृषि एवं सिंचाई-1 - 1.50,कृषि एवं सिंचाई-2 - 7.75,औद्योगिक सेवा-1 - 8.35,(19 केवी तक) औद्योगिक सेवा-2 - 8.32 (19 केवी से ज्यादा और 74 केवी से कम) औद्योगिक सेवा-1 - 8.67,(11 केवी) औद्योगिक सेवा-2 - 8.60,(33 केवी), औद्योगिक सेवा-3 - 8.01,(132 केवी) (सभी आंकड़े रुपये प्रति यूनिट में) हिन्दुस्थान समाचार/अरुण/शंकर News Ticker Huawei ने उतारे दो स्‍मार्टफोन, Paytm जैसे फीचर तैयार मिलेंगे BOOKS पहले चरण का प्रशिक्षण आसान था. इसमें सभी प्रशिक्षुओं को 5000-12,000 रुपये देने थे. इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं कि नेशनल स्किल डेवलपमेंट काउंसिल (एनएसडीसी) पहले चरण का लक्ष्य प्राप्त कर लिया. इसने 18 लाख लोगों को प्रशिक्षण दिया और अतिरिक्त 12 लाख लोगों को प्रमाणित भी किया. अजमेर में मंगलवार को कांग्रेस ने बिजली के बिलों में बेतहाशा वृद्धि को लेकर टाटा पावर के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया. सैकड़ों कांग्रेसी कार्यकर्ता रैली के रूप में सिटी पावर हाउस पहुंचे जहां उन्होंने पहले तो जमकर नारेबाजी की और बाद में विरोध जताते हुए रास्ता जाम कर दिया. प्रदर्शन कर रहे कांग्रेसियों और पुलिस के बीच टकराव की स्थिति भी पैदा हुई. लेकिन बाद में माहौल को शांत किया गया. प्रदर्शकारियों ने कहा कि जब से टाटा पावर ने शहर की बिजली व्यवस्था को संभाला है तब से लगातार बिजली के बिलों में बढ़ोतरी की जा रही है जिससे आम आदमी परेशान हो चुका है. (अजमेर से अभिजीत दवे की रिपोर्ट) निकाय चुनाव के बाद यूपी में बढ़ने वाली है बिजली की दरें टी वी समाचार एग्जिट पोल: UP निकाय चुनाव में योगी का जादू 300 मीटर ऊंची उत्तर भारत की बुर्ज खलीफा बनकर तैयार, नजीब जंग का भी बनेगी ठिकाना 53 mins सब्सक्राइब करें न्यूज़कोड का डेली न्यूज़लेटर Android जनसत्ता स्वच्छता और स्वास्थ्य विज्ञान संभागायुक्त एवं कलेक्टर द्वारा कोठी पर झंडा वन्दन किया गया 15/08/2018 हर अखबार ने यही कहा- अटल, अमर, अनंत! Updated:2018-07-09 14:25:05.0 मोबाइल सक्सेस स्टोरी Advertise Views एमडीएस-1 रूरल( मीटर)  पिछली कहानी LIVE: थोड़ी देर में इमरान खान का शपथ ग्रहण, पाक आर्मी चीफ बाजवा से मिले नवजोत सिद्धू जयपुर में देर रात झमाझम बारिश, मौसम हुआ ठंडा, सड़कों पर जगह-जगह भरा पानी   प्रत्यायन कंपनी « Jul     संजीव रंजन उर्फ छोटू पासवान Kya bijli connection free milte hai mere Lena village Chhajoli Jayal नागौर वालीवुड 255 Retweets चाईबासा : आरोपी का साला गांव के मेले में जुआ खेलाते हुए नकद के साथ गिरफ्तार   कहाँ रुकना है प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में भारी गड़बड़ी करने वाले सात अधिशासी अभियंताओं को चार्जशीट Vivo ने लांच किया एक और धांसू फोन, कम दाम में मिलेंगी जबरदस्त खूबियां पैन कार्ड Haven't received OTP ? Click to resend वित्त पोषण पद्धति News In Hindi केंद्रीय विद्युत मंत्रालय की ओर से इकट्ठा किए गए आकड़ों के मुताबिक 2014-15 और 2017-18 के दौरान औसतन 5.66 फीसदी विद्युत का इजाफा देखा गया है जबकि 2010-11 और 2013-14 के बीच ये आकड़ा औसतन 5.9 फीसदी का था. और सरकार का ये दावा तब है जब हाल के सालों में थर्मल पावर प्लांट का परिचालन ऐतिहासिक तौर पर सबसे निम्न स्तर पर रहा है. Feedback : 8130392355 Himachal News in Hindi India Today Conclave Energy Efficient Star Rated Power Inverters in India कतरास jobs Updated: नीदरलैंड में जल्द शुरू होगा दुनिया का पहला समुद्र में तैरता डेयरी फार्म, रोबोट निकालेंगे गायों का दूध 18 mins बेदाग और चमकदार त्वचा पाना हर लडकी का सपना होता है लेकिन चेहरे पर निकलने वाले मुंहासे और फुंसियां हो… Partners 2:30 वोडाफोन ने उतारा नया 99 रुपये का प्लान घर पर रशियन सलाद बनाने की आसान रेसेपी, एक बार जरूर करें ट्राई डियर जिंदगी Rajasthan Scheme आजादी के 71 साल बाद भी कुपोषण से हर साल होती है 3000 बच्चों की मौत आयुष Local News रक्सौल-काठमांडो रेल परियोजना के कार्य में तेजी लाएगा नेपाल और भारत अपडेट BBC iD उपभोक्ता को किस लागत पर बिजली की आपूर्ति हो रही है  BMW लाई फेस्टिव ऑफर, मिलेगा ये शानदार फायदा सीएचसी चंदनकियारी ईंधन प्रबंधन प्रभाग प्रधानमंत्री शहरी/ ग्रामीण आवास योजना 2018 नयी लाभार्थी सूची, ऑनलाइन नाम खोजें मकर राशि वालों आज आपके बिगड़े काम बनेगें तथा अधिकारियों से आपकी मित्रता के कारण आपको लाभ प्राप्त......Read more राष्ट्र में थर्मल ऊर्जा उत्पादन 344 गीगावाट व अक्षय ऊर्जा क्षमता 70 गीगावाट है. इसमें अधिकतम मांग वाले समय में उपलब्धता 173 गीगावाट रहती है. ऊर्जा खरीद समझौता नहीं होने के कारण एक एरिया से दूसरे एरिया में बिजली की आपूर्ति संभव नहीं हो पाती है. ऐसे में महंगी बिजली खरीदनी पड़ती है, जिसका सीधा प्रभाव उपभोक्ता पर भी पड़ता है . श्वेता बच्चन ने अपनी बेटी नव्या नवेली के साथ करवाया हॉट फोटो शूट मीन राशि वालों आज आप संघर्ष एवं कार्य शक्ति से अपने कार्यों को पूरा करेंगे। आज आपकी अर्थव्यवस्था......Read more बड़ी खबर स्वस्थ रहने के लिए बहुत जरूरी हैं ये विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थ चौकीदार की चाकू से गोदकर हत्या, खाली प्लॉट... कल जहां चले बुलडोजर, आज फिर सज गया बाजार दिल्ली में ठोस कचरा गंभीर समस्या, SC ने कहा- एक कमेटी गठित करें एलजी Jharkhand Scheme रांची : जनहित में बिजली दर कम करें, नहीं तो होगा जन-आंदोलन- सुबोध कांत सहाय  लखनऊः 30 हजार लोगों को सिंगल पॉइंट कनेक्शन से मिलेगी मुक्ति गोयला में भू-स्खलन से एक दर्जन मकानों को खतरा, एसडीएम से मिले ग्रामीण भारत में विद्युत क्षेत्र बहु-आयामी जटिलता द्वारा अभिलक्षणित है। कई संगठन विद्युत क्षेत्र के विभिन्न क्षेत्रों में अनुसंधान संपन्न कर रहे हैं। अनुसंधान कार्यक्रमों को, उपलब्ध सीमित संसाधनों से, अत्यधिक परिणामोंन्मुखी बनाना चाहिए । national 'जो भी यहां आता है, लट्टू हो जाता है', जानिए इंदौर को लेकर अटल जी ने क्यों कहा था ऐसा Television Hindi NewsNDTV India LiveWorld News in HindiSports News in HindiCricket News in HindiBollywood News in HindiArchivesAdvertiseAbout UsFeedbackDisclaimerInvestorComplaint RedressalCareersContact UsSitemap© Copyright NDTV Convergence Limited 2018. All rights reserved. भारत में 765 केवी सिस्टम विदेश961 Promoted by 24 supporters केविप्रा न्यूज रिपोर्ट जवानी में कर लें ये काम, वरना बुढ़ापे में मुश्किल छह साल बाद मिली भेड़, उतारे गये बाल छत्तीसगढ़ में बिजली की नई दरें घोषित, उपभोक्ताओं को कुल 531 करोड़ की दी छूट जिला नई दिल्ली, 30 मार्च 2018, अपडेटेड 11:28 IST नियम मोदी की मुख्यमंत्री विजयन के साथ बैठक, बाढ़ के हालात… पीसीबी की भूमिका प्रयोगपृष्ठ जागरण संवाददाता, मोहाली : चंडीगढ़ के बाद अब मोहाली में भी सस्ते बिजली उपकरण मिलेंगे। जिनमें बल्ब से 0 COMMENT October 2017 उज्जैन 19 जुलाई। मध्यप्रदेश के लाखों श्रमिक और बीपीएल वर्ग की जिंदगी में छाया अंधेरा अब दूर होने जा रहा है। पहले सौभाग्य योजना फिर अब सरल बिजली बिल और मुख्यमंत्री बकाया बिजली बिल माफी स्कीम में उन्हें सस्ती दर पर बिजली मुहैया करवाने के साथ बकाया बिजली बिल से भी मुक्ति दिलाई जा रही है। सौभाग्य योजना से अब तक जहाँ 17 लाख से अधिक घरों को बिजली कनेक्शन दिये गये, वही एक जुलाई से लागू दोनों नई योजनाओं ने पंजीकृत श्रमिकों और बिजली बिल के बकायादार बीपीएल श्रेणी के गरीबों की जिंदगी को रोशन कर दिया है। Submittingजमा करें bihar LATEST NEWS गैर घरेलू People धनबाद : प्रेस क्लब में मिले 21 रसेल वाइपर सांप, इनका काटा पानी भी नहीं... Economy जहां मन करता है उड़ जाता है ये जोड़ा Back to top ↑ जिले के प्रत्येक जेई को अभियान के तहत कम से कम 20 बिजली कनेक्शन काटने का लक्ष्य दिया गया है। जिसके लिए सभी जेई अपने-अपने डिविजन की सूची तैयार कर अभियान में जुड़ गए हैं। बेस्ट एनर्जी कंपनी - इलेक्ट्रिक कंपनी स्विच करें बेस्ट एनर्जी कंपनी - विद्युत योजना की तुलना करें बेस्ट एनर्जी कंपनी - इलेक्ट्रिक बिल कैसे कम करें
Legal | Sitemap