फीडबैक: फीडबैक भेजें अटल जी के यह 9 निर्णय जिन्होंने देश की किस्मत बदल दी Welcome back to Molitics ग्वालियर. 25 अप्रैल 2017 को बिजली कंपनी के मुख्य महाप्रबंधक के ऑफिस में जहर खाकर जान देने वाले बिजली ठेकेदार रवींद्र सिंह जादौन की हर बात सच थी. वे खुद 9 साल बिजली कंपनी से अपने किए गए काम का पौने चार लाख रुपए मांगते रहे. सीएम से लेकर हर बिजली अधिकारी से शिकायत की लेकिन किसी ने नहीं सुनी. जब वे पूरी तरह टूट गए तो जान दे दी. अब मजिस्ट्रियल जांच रिपोर्ट में ठेकेदार के काम को होना पाया गया है और एडीएम शिवराज वर्मा ने बिजली कंपनी के मुख्य महाप्रबंधक को ठेकेदार के कार्य का पैसा तत्काल जारी करने के आदेश भी दे दिए हैं. 10 साल के इंतजार के बाद अब परिवार को भुगतान के आदेश मिले हैं. जल योद्धा भारत काश कोई सुन लेता तो पापा जिन्दा होते जिम्मेदारों पर करवाई की मांग उठी हे 404 error वितरण प्रणालियाँ प्रभाग में उपलब्ध साफ्टवेयर सुविधाएँ - डीएसडी Suggestions | पश्चिमांचल गणेश महाली चीन भी CONNECT WITH US # SBI Q1 Results 2018# IKEA Jobs# Air India# Bank Holidays 2018# Sensex Today# Jet Airways# ITR Filing Status# How to File ITR# HRA Exemption# ITR Filing Online सोनिया के खिलाफ लेख पर जब अटल ने दी नसीहत गोड्डा हंगामे के बाद सुधार की याद आई? प्रधान मंत्री सौभाग्य बिजली हर घर योजना का मुख्य उद्देश्य – सौभाग्य योजना एक बड़ी संख्या में ग्रामीण परिवारों का विद्युतीकरण करना है, जो उत्पादन क्षेत्र में मदद करेगा, बिजली की मांग को आगे बढ़ाकर सामाजिक और आर्थिक लाभों की वृद्धि करेगा। और विद्युत मंत्रालय नोडल प्राधिकरण है जिसकी जिम्मेदारी देश में प्रत्येक परिवार को बिजली कनेक्शन प्रदान करने और लक्ष्य पूरा करने की जिम्मेदारी है भारतीय वस्तु सूची , सीपीआरआई का नेतृत्व वन माफिया पर कसा शिकंजा, जीप से खैर के 22 मौछे बरामद नई बिजली दरों की हुई घोषणा (प्रतीकात्मक फोटो) 326 Views इस पोस्ट को शेयर करें WhatsApp Arvind Kejriwal शासकीय योजनाएं This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed. Oops! That page can’t be found. Show Full Articleं फंसी बिजली परियोजनाओं पर सरकार का नया प्लान, ऐसे निकालेगा मुश्किलों का हल मुख्यमंत्री बकाया बिजली बिल माफी स्कीम ऐसे में अब सवाल उठ रहे हैं कि दिल्ली में बिजली के दाम कम करने के दावों के बीच अब महंगी बिजली की आशंका क्यों जोर पकड़ रही है. दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता ने आरोप लगाया है कि बिजली कंपनियों पर लगाम लगाने में सरकार पूरी तरह नाकाम रही है. यह भी पढ़ें बंद करे पवन और सौर ऊर्जा क्षेत्र में उत्पादन क्षमता की नीलामी योजना की रूपरेखा पेश किये जाने के मौके पर उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम हर घर को सातों दिन 24 घंटे बिजली देने के लिये काम कर रहे हैं और इसका पूरा दायित्व बिजली वितरण कंपनियों पर होगा. इसे लागू करने के लिये जो भी सहायता की जरूरत होगी, हम देंगे.’’ मंत्री ने कहा, ‘‘देश में बिजली वितरण को लेकर पहले से सेवा बाध्यता है, इसे और स्पष्ट बनाया जाएगा. देश में बिजली की कोई कमी नहीं है, हमारी पारेषण प्रणाली मजबूत है. राज्य के अंदर पारेषण की जरूर समस्या है, जिसे दूर करने के लिये राज्यों के साथ काम किया जा रहा है.’’ अभिजीत राज सभी धनबाद नगर निगम की जनता को हार्दिक शुभकामना मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव कह चुके हैं कि प्रदेश भाजपा सरकार बिजली उपभोक्ताओं से देश में सबसे अधिक बिजली की दर वसूल रही है। श्री यादव ने कहा था कि बिजली के अनाप-शनाप बिलों को न दे पाने की वजह से किसानों को परेशान किया जा रहा है और सरकार उनके ट्रैक्टर, मोटर पम्प आदि जब्त कर रही है। Main Menu ट्रान्सफार्मर तथा रिऐक्टर कार्यक्रम द वायर आपका, आपके लिए और आपके सहयोग से चलने वाला पत्रकारिता संस्थान है. इसे बचाए और बनाए रखने में सहयोग करने के लिए क्लिक करें. » 100 से अधिक       3.15 आगराः बिजली कंपनी के वाहन की चपेट में आने से बालक की मौत, हंगामा 200 करोड़ की चपत लगा रही अफसरों की ये 'दोस्ती' We are very sorry, the page you are looking for appears to be missing. Click here to go to the home page. इससे पहले रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने फरवरी में बैंकों को निर्देश दिया था कि वे स्ट्रेस्ड लोन के मामलों को डिफॉल्ट के 180 दिनों के अंदर सुलझाएं। आरबीआई ने कहा था कि अगर ऐसा नहीं किया जाता है तो कंपनी को लोन रिजॉल्यूशन के लिए नेशनल कंपनी लॉ ट्राइब्यूनल (एनसीएलटी) ले जाना होगा। यह फैसला 2,000 करोड़ से अधिक के सभी लोन के लिए था। हालांकि, पावर सेक्टर को पावर परचेज एग्रीमेंट (पीपीए) साइन नहीं किए जाने, सरकारी अप्रूवल में देरी और कोयले की सप्लाई नहीं मिलने जैसी कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। Country Code For customers of धर्म और आध्यात्मिकता अर्थव्यवस्था की बागडोर फिर पुराने कंधों पर... Puri Jankari Videos Gallery लखनऊ से और दून में पहाड़ी शैली में बनेंगे पुलिस बूथ, चौराहों पर दिखेगा ब्रह्मकमल हमारी पुस्तकें Users Today : 1 Share Save list Bitcoinonair.com | खरीदें विकिपीडिया, बिटकॉइन गाइड्स और; Bitcoin Newbies के लिए समीक्षाBitcoinonair.com वीडियो और टेक्स्ट ट्यूटोरियल प्रदान करता है कि पेपैल, क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड और अधिक के साथ बिटकॉन्स कैसे खरीदें। हम आपको अपने पहले बिटकॉइन के साथ भी आपूर्ति करते हैं Solar Inverter Price in India Latest TV Technologies in India पिथौरागढ़ म. प्र. मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण क. स्वदेश विशेषView All विनोबा भावे विस्वविद्यालय स्नातकोत्तर छात्र संघ अध्यक्ष नदी घाटी/बाढ उन्मुख नदी योजना आइए जानते हैं बिजली की दरों में बढोतरी को लेकर किन मुद्दों पर गुप्ता ने सरकार को घेरा सरकार ने निजी कंपनियों के उस हिसाब किताब को लेकर कोई पड़ताल नहीं की, जो कंपनियों ने सरकार के पास जमा कराया. हर साल कंपनियां फर्जी घाटा सरकार के सामने पेश करती हैं और सरकार चुपचाप उसे अपने पास रख लेती है, इसका मतलब है कि सरकार की मौन स्वीकृति है. अब कंपनियों ने इसी घाटे को आधार बनाकर बिजली की बढ़ी हुई दरें डीईआरसी के सामने पेश कर दी हैं. सरकार तो (सीएजी) आडिट कराने की बात करती थी, लेकिन अब उस मामले पर चुप है, केजरीवाल जी को जवाब देना चाहिए कि आखिर दिल्ली वालों को सस्ती बिजली के सपने दिखाकर बिजली महंगी करने की तैयारी क्यों की जा रही है. सरकार हर साल दो हज़ार करोड़ रुपए निजी बिजली कंपनियों को सब्सि़डी के तौर पर दे रही है, दिल्ली की जनता की कमाई का पैसा कंपनियों को दिया जा रहा है और अब दिल्ली की जनता पर ही टैरिफ का बोझ बढाने की तैयारी हो रही है. कांग्रेस ने ताबूत घोटाले में बदनाम किया था अटल बिहारी वाजपेयी को परामर्श सेवाऍं ‘मुखौटा’ वाजपेयी हमेशा संघ के प्रति निष्ठावान रहे Ed Tech Blog सिद्धार्थनगर Sitemap रेलवे: आवेदनों की जांच अंतिम दौर में, सितंबर में परीक्षा संभव www.bhaskar.com 25 दिसम्बर 2016, 01:39 AM 8 धार्मिक स्थान मेट्रो से और दुनिया के अजीबोगरीब कानून, जिन्हें जानकर आप रह जाएंगे हैरान गोपनीयता जॉन अब्राहम की बॉडी बनवाई इस शख्स ने 6 पैक्स एब्स के बारे में ये सीक्रेट्स किए शेयर 6 mins 719 प्रमुख सिविल सेवाओं का परिचय BREAKING NEWS होम उत्पादएकल चरण इलेक्ट्रिक मीटर यह पेज उपलब्ध नहीं है। उत्तर प्रदेश में बिजली हुई महंगी, जानिए कितनी बढ़ी कीमतें साहित्य मुआवजे को लेकर ग्रामीणों ने कुआंखेड़ा रोड पर शव रखकर जाम लगा दिया। सूचना पर पुलिस और टोरंट अधिकारी पहुंच गए। पुलिस ने समझा बुझाकर ग्रामीणों को शांत किया और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।  संविधान की प्रतियां जलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग बिज़नस न्यूज़ से सुपरहिट इसलिए योजना को सभी पहलुओं के बारे में लोगों को जागरूक बनाने के लिए व्यापक मल्टी-मीडिया अभियान चलाया जाएगा। बिजली विभाग के साथ-साथ सौभाग्य योजना के बारे में जागरुकता पैदा करने के लिए डिस्कॉम के अधिकारियों ने ग्रामीण इलाकों में शिविरों का आयोजन भी किया था। जागरूकता अभियान में स्कूल शिक्षक, ग्राम पंचायत सदस्य, स्थानीय साक्षर / शिक्षित युवा भी शामिल होंगे। पाकुड विशेष: Health & Fitness कश्मीर को मिली शीशे से बनी विशेष ट्रेन, और मनोरम होगा वादियों का नजारा आई आर पी Storyboard Creator Get 1 Year FREE Magazine (Current Affairs Today) Subscription गैर सरकारी संगठन ..जब नवाज शरीफ बोले वाजपेयी साहब पाकिस्तान में भी जीत सकते हैं चुनाव 0 कर्ज भुगतान में देर। एडीएम के आदेश संधारित्र घरेलू एवं बीपीएल उपभोक्ता(10 पैसे कम) Business Articles इमरान के शपथ ग्रहण समारोह में सबसे 'ताकतवर' शख्स ने सिद्धू का किया स्वागत बिजली कंपनी अगले महीने से लागू करेगी बीपीएल उपभोक्ताओं के बिजली बिल माफ करने वाली योजना satendra bartwal | News18 Uttarakhand पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के रूप में 11 अगस्त को शपथ... Deutsche Welle 1999 में वेबसाइट से प्रचार करनेवाले यूपी के पहले उम्मीदवार थे अटल बिहारी वाजपेयी 15 most beautiful women in the world इसके तहत 9 वाट का एलईडी बल्ब 65 रुपये में, ट्यूबलाइट 230 रुपये और फाइव स्टार पंखा 115 रुपये में दिया जा रहा है। इससे बिजली कम यूज होगी और लोगों के बिजली बिल कम आएंगे। हालाकि खरीदने वाले उपभोक्ताओं के उपकरण में अगर कोई खराबी आती है तो उसे चेंज कर दिया जाएगा। दूरभाष: सर्वाधिक खोजे गए Impact योगदानकर्ता अनुसंधान योजना वाणिज्यिक बिजली दरें - सस्ते विद्युत आपूर्ति वाणिज्यिक बिजली दरें - अब सहेजें वाणिज्यिक बिजली दरें - विद्युत छूट
Legal | Sitemap