नई राज्य ईमेल सेवा गोवा ગુજરાતી पांच श्रेणियों में बांटे गये उपभोक्ता  अटल बिहारी वाजपेयी के निधन के चलते IGMC में लटके मरीजों के ऑप्रेशन आरएसओपी फॉर्मेटों की सूची बीबीसी के बारे में कच्चा तेल (CRUDEOIL) रघुनाथ टुडु लोक शिकायत स‍िनेमा महेंद्रा रेवा ई2ओ लाइव सिटीज डेस्क, देवांशु प्रभात : भाजपा के राष्ट्रीय  अध्यक्ष अमित शाह आज रांची में हैं. भाजपा सरना और सदान पर फोकस के साथ मिशन 2019 की शुरुआत करने जा रही है. अमित शाह आदिवासी […] समाचार / प्रेस विज्ञप्ति संन्यासी के पास इतना सोना कहां से आया? आरटीएल, कोलकत्ता अवलोकन Not Now मंत्री श्री जैन ने हासामपुरा में स्व.दिगंबरराव तिजारे स्टेडियम का लोकार्पण किया, विधायक ट्रॉफी 2018 का पुरस्कार वितरण भी किया 15/08/2018 English English Petitions promoted by other Change.org users पारेषण मंत्री श्री जैन ने हासामपुरा में स्व.दिगंबरराव तिजारे स्टेडियम का लोकार्पण किया, विधायक ट्रॉफी 2018 का पुरस्कार वितरण भी किया Public · Anyone can follow this list Private · Only you can access this list एफएक्यू आठ जुआरियों से साढ़े 11 हजार जब्त ये मॉडल हाउस बर्लिन में है. आयडिया है कि इसमें घर की जरूरत से ज्यादा बिजली बने ताकि अतिरिक्त बिजली से ई-कार या फिर ई-साइकल चार्ज की जा सके. हालांकि पहली बार थोड़ी मुश्किल भी हुई. IAS टॉपर टीना डाबी का हसबैंड संग 'लुंगी डांस', बिग बी के गाने पर लगाए ... कृषि(25 एचपी तक)- 5.70 - 5.00 आइए जानते हैं बिजली की दरों में बढोतरी को लेकर किन मुद्दों पर गुप्ता ने सरकार को घेरा सरकार ने निजी कंपनियों के उस हिसाब किताब को लेकर कोई पड़ताल नहीं की, जो कंपनियों ने सरकार के पास जमा कराया. हर साल कंपनियां फर्जी घाटा सरकार के सामने पेश करती हैं और सरकार चुपचाप उसे अपने पास रख लेती है, इसका मतलब है कि सरकार की मौन स्वीकृति है. अब कंपनियों ने इसी घाटे को आधार बनाकर बिजली की बढ़ी हुई दरें डीईआरसी के सामने पेश कर दी हैं. सरकार तो (सीएजी) आडिट कराने की बात करती थी, लेकिन अब उस मामले पर चुप है, केजरीवाल जी को जवाब देना चाहिए कि आखिर दिल्ली वालों को सस्ती बिजली के सपने दिखाकर बिजली महंगी करने की तैयारी क्यों की जा रही है. सरकार हर साल दो हज़ार करोड़ रुपए निजी बिजली कंपनियों को सब्सि़डी के तौर पर दे रही है, दिल्ली की जनता की कमाई का पैसा कंपनियों को दिया जा रहा है और अब दिल्ली की जनता पर ही टैरिफ का बोझ बढाने की तैयारी हो रही है. लोगों पर गिरी ‘बिजली’ शादी का झांसा देकर 5 वर्ष तक दुष्कर्म कांगड़ा अ- अ अ+ Deshbandhu admin - August 18, 2018 Greek Ελληνικά IP address: 52.0.171.222 अजमेर में मंत्री वासुदेव देवनानी ने स्कूल कक्षा कक्षों का किया लोकार्पण टेक कम्पैरिजन देहरादून EPAPER विद्युत के प्रधान क्षेत्र Public Holiday तरंग Weather सिंचाई (मीटर) आइएएस वन  0.70  5.00 Read More: 日本語 tegbir singh pannu‏ @tegbirpannu Jun 7 Related Stories अमेरिका © 2018 All Right Reserved radarnews.in Welcome home! आखिर क्यों संजू बाबा बॉलीवुड के बेस्ट... बिजली की खपत मनोज तिवारी की एलजी से अपील, दोबारा शुरू हो राजघाट पावर प्लांट Deutschlehrer-Info हिमाचली लाल सोने पर अमरीका के सेब का आज भी बना खतरा संदिग्ध युवक निकला शातिर अपराधी, कमर से पिस्टल तो बाइक भी चोरी का June 27, 2018 निर्वाचित विषयवस्तु अपने By Hussain Kanchwala on March 26, 2018 आत्मनिर्भर महिलाओं के लिए होगा सम्मान समारोह घरेलू बिजली की दरें एक से डेढ़ रुपये प्रति यूनिट कम की गईं 'प्यार की अजब दास्तां' हकीकत में वो हुआ जो अब तक सिर्फ फिल्मों में ही ... देश का विदेशी पूंजी भंडार बड़ी गिरावट, एक सप्‍ताह में 1.82 अरब डॉलर की आई कमी कोलकाता मध्यप्रदेश147 August 18, 2018 NDTVBusinessHindiMoviesCricketHealthFoodTechAutoAppsPrimeArtWeddings जवाब –  हाँ गरीब परिवारों को बिजली कनेक्शन मुफ्त में प्रदान किया जाएगा। अन्य घरों को भी 500 रुपये का भुगतान करने पर योजना के तहत बिजली कनेक्शन प्रदान किया जाएगा जो की बिजली बिलों के साथ दस (10) किश्तों में डिस्कॉम / बिजली विभाग द्वारा वसूल किया जाएगा। नालंदा : खास खबर – रहने के लिहाज़ से पटना से आगे निकला बिहारशरीफ। अपनी पसंद में जोड़ें संस्मरणः सांसद किसी पार्टी का हो, सबको एक निगाह से देखते थे वाजपेयी 0 पेंशन और ग्रेच्युटी देनदारियों के कारण लागत कवरेज में गिरावट। उन्होंने बताया कि जिन इकाइयों को उद्यम प्रोत्साहन नीति 2015 की अधिसूचना अर्थात 15 अगस्त,2015 को या उसके बाद बिजली कनेक्शन जारी किया गया है, वे 14 अगस्त, 2020 तक पावर टैरिफ सब्सिडी के लिए पात्र होंगी। उन्होंने कहा कि ‘सी’ और ‘डी’ श्रेणी खंडों में स्थापित ऐसे सूक्ष्म एवं लघु उद्योग इस योजना के लिए पात्र होंगे, जिन्होंने पोर्टल https://udyogadhaar.gov.in पर संबंधित जिला उद्योग केंद्र के साथ उद्योग आधार ज्ञापन (यूएएम) फाईल किया है। राष्ट्रीय बायोगेस योजना अध्यापकों की टीम ट्रेंडिंग टॉपिक्स पटना,17 अप्रैल (हि.स.)। राज्य कैबिनेट की मंगलवार को यहां हुई बैठक में इस वर्ष अप्रैल से बिजली की बढ़ी हुई टैरिफ दरों में उपभोक्ताओं को सब्सिडी देकर सरकार ने दावा किया है कि बिहार की बिजली दर सभी पड़ोसी राज्यों यूपी और पश्चिम बंगाल से काफी कम है । कैबिनेट की बैठक के बाद मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने बताया कि इस वर्ष बिजली दर में सब्सिडी के कारण राज्य सरकार के खजाने पर 4137 करोड़ का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा । पिछले वर्ष 2952 करोड़ रुपये की सब्सिडी दी गयी थी. उन्होंने बताया कि सब्सिडी के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में कुटीर ज्योति योजना के तहत बिजली की दर प्रति यूनिट 2.45 रुपये पड़ेगी । पश्चिम बंगाल में यह 3.44 रुपये और यूपी में 3.39 रुपये प्रति यूनिट है । इसी तरह शहरी और ग्रामीण क्षेत्र की बिजली दरें भी पड़ोसी राज्यों से कम हैं । इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में घरेलू उपयोग और कृषि व सिंचाई के लिए बिजली दर में कोई बढ़ोतरी नहीं की गयी है । इस पर वर्तमान दर से ही बिजली बिल का भुगतान करना होगा । शहरी क्षेत्रों की बिजली दर में महज 10 पैसे प्रति यूनिट की ही बढ़ोतरी की गयी है | अब यह 5.30 रुपये प्रति यूनिट से बढ़कर 5.40 रुपये हो गयी है । मुख्य सचिव ने कहा कि बरौनी, कांटी और नवीनगर बिजलीघरों को एनटीपीसी को ट्रांसफर कर दिया गया है । इन यूनिटों से राज्य को अपने स्तर पर बिजली उत्पादन काफी महंगा पड़ रहा था । बरौनी थर्मल पॉवर स्टेशन से अभी बिजली उत्पादन में प्रति यूनिट 5.75 रुपये का खर्च आ रहा है, जबकि बाढ़ एनटीपीसी से बिजली खरीदने पर यह खर्च 4.25 पैसे प्रति यूनिट ही पड़ेगा । इस वजह से सभी बिजली उत्पादन ईकाइयों को एनटीपीसी को ही स्थानांतरित करने का निर्णय लिया गया है । इससे सरकार को 875 करोड़ रुपये सालाना की बचत होने का अनुमान है । वर्ष 2017-18 के लिए बिजली उपलब्धता करीब 27 हजार 178 मिलियन यूनिट है, जबकि 2018-19 के लिए बिजली उपलब्धता का लक्ष्य 29 हजार 403 मिलियन यूनिट निर्धारित किया गया है, जो पिछले वर्ष से 8% अधिक है । सब्सिडी के बाद बिजली दर :-कुटीर उद्योग- 2.45,घरेलू (ग्रामीण)- 3.17,घरेलू (शहरी)- 5.40,गैर-घरेलू (ग्रामीण)- 4.00,गैर-घरेलू (शहरी)- 8.25,कृषि एवं सिंचाई-1 - 1.50,कृषि एवं सिंचाई-2 - 7.75,औद्योगिक सेवा-1 - 8.35,(19 केवी तक) औद्योगिक सेवा-2 - 8.32 (19 केवी से ज्यादा और 74 केवी से कम) औद्योगिक सेवा-1 - 8.67,(11 केवी) औद्योगिक सेवा-2 - 8.60,(33 केवी), औद्योगिक सेवा-3 - 8.01,(132 केवी) (सभी आंकड़े रुपये प्रति यूनिट में) हिन्दुस्थान समाचार/अरुण/शंकर मंदाकिनी घाटी में आग म. प्र. पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण क. विशेष प्रेषित समय :08:53:32 AM / Wed, Jun 13th, 2018 प्रतिनिधिमंडल के साथ मुजफ्फरपुर जा रहे तेजस्वी यादव, देखेंगे सही जांच हो रही या नहीं आरटीआई सूचना ऊर्जा राज्य मंत्री पुष्पेंद्र सिंह ने योजना की घोषणा करते हुए कहा कि पहले फेज में 11 केवी की लाइन से 650 मीटर तक बसी ढाणियों और मकानों को बिजली कनेक्शन दिए जाएंगे। 11 केवी लाइन से 150 मीटर तक बसे मकानों को डिमांड राशि 10 हजार रुपए लगेगी। 150 से 500 मीटर दूरी पर बसे मकानों को कनेक्शन लेने के लिए पोल का चार्ज  हर मीटर पर 100 रूपए अतिरिक्त देने होंगे। ऊर्जा लागत की तुलना करें - नवीकरणीय ऊर्जा ऊर्जा लागत की तुलना करें - गैस तुलना ऊर्जा लागत की तुलना करें - इलेक्ट्रिक कंपनी स्विच करें
Legal | Sitemap