1661 Have an account? Log in » 05/09/2011 - 10:26 कृत्यों के निर्वाहन हेतु नियम About Us | Privacy Policy | Contact Us | Feedback | Sitemap | RSS Submitted by Hindi on Tue, 03/01/2011 - 09:12 विविध April 15, 2018 February, 2016 नई बिजली दरों का मकसद मीटरिंग को बढ़ावा देना है ताकि छोटे उपभोक्ताओं पर गैर-जरूरी फिक्स्ड टैरिफ का बोझ न पड़े और बिजली के इस्तेमाल में किफायत भी आये. मिसाल के लिए अगर एक ग्रामीण घरेलू उपभोक्ता एक महीने में 30 यूनिट की बिजली इस्तेमाल करता है तो नई दरों के हिसाब से उसका महीने का बिल सिर्फ 140 रुपये आयेगा जबकि फिक्स्ड टैरिफ के तहत उसके ऊपर इससे लगभग ढाई गुना बिल आता.  यहां जान जोखिम में डाल खड्डों में नहाने उतर रहे पर्यटक Be part of Gaon Connection initiative... शहर संत कबीर दास के दोहों में छुपा है जीवन को सफल बनाने का सूत्र 42 mins नियमित बिजली बिल भरने वाले उपभोक्ताओं पर पड़ेगा भार पाकिस्‍तान जाकर नवजोत सिंह सिद्धू को याद आए अटल, जानिए- क्या कहा यात्रा एवं पर्यटन सर्वाधिक खोजे गए अप्रैल के बाद महंगी हो सकती है बिजली अधिक जानकारी के लिए कृपया संपर्क करें : क्रिकेट खबरें ट्रैवलिंग Film Resources – Film and Video Resources नश्तर जानकारों का दावा है कि बिजली कंपनियों का मुनाफा बढ़ा है. जबकि दिल्ली की तीनों बिजली कंपनियों का कहना है कि उन्हें 21000 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है जिसकी भरपाई बिजली की दरों में करीब बीस से तीस फीसदी वृद्धि करके की जा सकती है. विदेशी मामले आज तक कॉपीराइट © e-Eighteen.com लिमिटेड. सर्वाधिकार सुरक्षित. moneycontrol.com की पूर्व-अनुमति के बिना कोई भी समाचार, फोटो, वीडियो या अन्य कोई भी सामग्री पूर्ण या अंशत: किसी भी स्वरूप में या माध्यम से इस्तेमाल करना प्रतिबंधित है Pisces (मीन) कार्यपालक दंडाधिकारी, बेरमो, तेनुघाट केजरीवाल सरकार पर बिजली कंपनियों से मिली भगत का आरोप 400 फीट ऊंचे टाॅवर से पहली बार यह विशेष तस्वीर VIDEO: अटल जी का पुश्तैनी घर बना खंडहर, परिजनों ने बताया ऐसा है हाल ‘तेरे मीठे आलिंगन से मैं मिठास हो जाऊंगा...’ आर ई एस डी Radio देश में पारेषण के सर्वोत्तम प्रथाओं ग्रामीण अनमीटर्ड उपभोक्ताओं को अब प्रतिमाह 300 देना होगा। अब तक अनमीटर्ड के लिए उपभोक्ताओं को 180 रुपये देना होता था। 2001 ऊर्जा संरक्षण अधिनियम के तहत नियम / विनियम नागरिक उपभोक्ता मार्गदर्शक मंच के डॉ.पीजी नाजपांडे और एमए खान ने याचिका में कहा, बीपीएल कार्डधारकों और असंगठित क्षेत्र के मजदूरों को 200 रुपए प्रतिमाह में बिजली दी जा रही है। एक जुलाई तक इनके बकाया बिजली बिलों को भी माफ किए जा रहे हैं। योजनाओं से बिजली वितरण कंपनियों का बजट पर प्रभाव पड़ेगा, और इसका खामियाजा आम उपभोक्ताओं को भुगतना पड़ेगा, बिजली की दरें बढ़ेंगी और आम जनता को महंगी बिजली लेनी पड़ेगी, सरकार ने सिर्फ आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए ये योजनाएं लाई है| याचिकाकर्ता ने तर्क दिया गया है कि इसी तरह नि:शुल्क बिजली देने के खिलाफ 2003 में याचिकाकर्ता ने हाईकोर्ट की शरण ली थी। तब कोर्ट ने तत्कालीन सरकार को 100 करोड़ रुपए चुकाने के निर्देश दिए थे। इस निर्णय के अनुसार सरकार को बिजली कंपनियों को 5179 करोड़ रुपए जमा करने के बाद ही ये योजनाएं लागू करने का हक है। जबकि हाइकोर्ट ने 13 जुलाई 2018 को इस संबंध में दायर उनकी याचिका खारिज कर दी।  इसके पीछे राजनीतिक लाभ लेने की मंशा स्पष्ट है। लिहाजा, हाईकोर्ट को अग्रिम राशि जमा करवानी चाहिए थी। पूर्व में ऐसा किया जा चुका है। चूंकि हाईकोर्ट ने जनहित याचिका खारिज कर दी, अत: उस आदेश को पलटवाने सुप्रीम कोर्ट जाना पड़ा। इस बारे में जनहित याचिका खारिज होने के दिन ही घोषणा कर दी गई थी। विद्युत पर अनुसंधान योजना (आरएसओपी) इस भाग में केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गयी दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के बारे में अधिक जानकारी दी गयी है| धनबाद : बुलेट की सवारी करने का शौकीन है ये बुलेट राजा लंगूर June 21, 2018 पूर्व गवर्नर ने बताई रुपये गिरने की बड़ी वजह Log In Windows हरिणा पंचायत मुखिया 1:39 सामान्य / विश्लेषणात्मक पहचान प्रधानमंत्री उज्जवला योजना दिल्ली के नए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपना दूसरा वादा भी पूरा कर दिया है। आज अरविंद केजरीवाल ने कैबिनेट की बैठक के बाद बिजली का भाव आधा कर दिया है। बिजली की दरों में ये कटौती 400 यूनिट तक बिजली के लिए है। दिल्ली सरकार दाम में इस कटौती की भरपाई फिलहाल सब्सिडी के जरिए की जाएगी। Email @AamAadmiParty @DrKumarVishwas लुटलो देश की गरीब जनता को मोदी है न आपके साथ। अडानी अम्बानी के हाथों देश बेच देगा मोदी। Ramesh Yadav‏ @ramesh_yadu 18 Aug 2015 अटल बिहारी वाजपेयी जी अपने पीछे छोड़ गए इतनी संपत्ति, जानें कौन होगा इसका अधिकारी दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना फिक्स चार्ज में वृद्धि नहीं, समय पर बिल देने पर डेढ़ फीसदी की छूट  Election Results आदि कल्पवास स्थली चमथा को राजकीय दर्जा दिलाने का करेंगे प्रयास : श्रवण कुमार 5 फीफा 2018 Investor| NDTVBusinessHindiMoviesCricketGood TimesFoodTechAutoAppsPrime कर्नाटक                            100                 4.56 रुपए  शेयर     A | B | C | D | E | F | G | H | I | J | K | L | M | N | O | P | Q | R | S | T | U | V | W | X | Y | Z | अन्य × रांची : झारखंड में बिजली उपभोक्ताओं को बड़ा झटका लगा है. विद्युत नियामक आयोग ने झारखंड बिजली वितरण निगम के प्रस्ताव पर नया टैरिफ निर्धारित कर दिया है. इसके अनुसार, राज्य में घरेलू बिजली 98 फीसदी तक महंगी हो गयी है. नयी दर एक मई से लागू कर दी जायेगी.  सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation फीडबैक: फीडबैक भेजें सेवाऍं उजाला मुख्यमंत्री ने किया डायल १०० मोटरबाइक का सुभारम्भ आज से मध्य-प्रदेश में डायल १०० बाइक्स सेवा शुरू पावर कॉरपोरेशन की चारों बिजली कंपनियों के उपभोक्ताओं पर रेग्युलेटरी सरचार्ज प्रथम अलग-अलग लागू है। पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम में सबसे ज्यादा 2.84 फीसदी। एक हजार रुपये पर करीब 28 रुपये, दक्षिणांचल में 1.14 फीसदी। एक हजार पर 11 रुपये, पूर्वाचल के 1.03 फीसदी। Spotlight loading... पर्यावरण Ramesh Yadav‏ @ramesh_yadu 18 Aug 2015 Religion Share this: युगलकिशोर मुखी सिंचाई अनुसूचित जाति कल्याण आपके डाटा से किसी और का मुनाफा क्यों? नवभारत टाइम्स ऑन फेसबुक अजमेर के प्रतिष्ठित मेयो कॉलेज में 11वीं के छात्र के साथ यौन शोषण ! मामला दर्ज सस्ता बिजली प्रदाता - उपयोगिता दरों की तुलना करें सस्ता बिजली प्रदाता - बिजली बचाओ सस्ता बिजली प्रदाता - सर्वश्रेष्ठ विद्युत सौदे
Legal | Sitemap