12/07/2010 - 15:50 NewsCode Jharkhand | 28 April, 2018 5:04 PM भारत नैनीतालः बिना ताल बेसुर बेताल URL: https://www.youtube.com/watch%3Fv%3Di2amjZ2TF7I पाकिस्तान के नए ‘कप्तान’ इमरान खान, शपथ ग्रहण में पहुंचे सिद्धू A- लखीमपुर खीरी Bhabua आधार को लेकर UIDAI जल्‍द जारी करेगी क्‍या करें-क्‍या न करें की लिस्‍ट, ट्राई चीफ के चैलेंज के बाद उठाया कदम आज के समाचार Water Heater श्री नेगी ने बताया कि दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति योजना सात दिन चौबीय घंटे सभी को बिजली, मुख्यमंत्री हर घर बिजली योजना और सौभाग्य सहित अन्य योजनाओं के तहत सभी उपभोक्ताओं को वित्त वर्ष 2018-19 तक विद्युत कनेक्शन उपलब्ध कराना है। उन्होंने बताया कि साथ ही दिसंबर 2017 तक सभी गांवों का विद्युतीकरण कार्य पूरा करने के लिए नेटवर्क का विस्तार होने से पूंजीगत व्यय में वृद्धि हुई है, जिसके कारण से बिजली की दरों में बढ़ोतरी की गई है। निविदाएँ This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions. PUBLIC SERVICE COMMISSION SCREENING TEST RESULTS विंडोज सीसैट प्रश्नपत्र II Tweet ग्रामीण इलाके में बिजली की दरें दो गुनी बढ़ी मनीष सिसोदिया के खिलाफ मानहानि की शिकायत खारिज महिंद्रा ई2ओ की टॉप स्पीड 80 किलोमीटर प्रतिघंटा है और एक चार्ज में ये कार 100 किलोमीटर चल सकती है. Reddit केरल में बाढ़ की स्थिति गंभीर, पीएम का दौरा सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र IV # BJP बढ़ते: 35 मिमी दीन मोबाइल-टेक कार्ड और खातों को लिंक बिजली कंपनी जून अंत तक कर लेगी। योजना के तहत असंगठित मजदूरों के कार्डधारी परिवारों के लिए 200 रुपए में पूरे महीने बिजली दी जाएगी। शासन ने असंगठित श्रेणी के मजदूरों के हाल ही में पंजीयन कराने के बाद कार्ड बनाए हैं, योजना के तहत भी कार्ड के नंबर से बिजली खातों को लिंक किया जाएगा। मिनी इंडस्ट्री के लिए कनेक्शन पर बिजली दर 5.73 रुपये से घटाकर 5.50 रुपये प्रति यूनिट कर दी गई है. आरटीएल, कोलकत्ता FROM NETWORK18 Quick Rubric – Easily Make and Share Great-Looking Rubrics जयपुर । जयपुर डिस्काॅम ने तीन महत्वपूर्ण योजनाओं की अवधि को आगामी तीस जून तक बढाया है जिससे अधिक से अधिक संख्या में उपभोक्ता इन योजनाओं का लाभ उठा सके। पूर्व में यह योजनाएं तीस अप्रैल तक ही प्रभावी थी। सुखपाल खैहरा को पार्टी ने क्यों हटाया, भगवंत मान ने किया खुलासा Sitamarhi उबर इट्स का नया 'ऐड फंडा', बिरयानी के ऐड में छाया 'जलेबी बॉय' व्यक्ति से संपर्क करें: [email protected] सरकार ने हाल ही में घोषणा की कि दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के तहत 18,452  गांवों के विद्युतीकरण की प्रक्रिया पूरी कर ली गई है. लेकिन इस आंकड़े के हिसाब से देश की बिजली खपत में कोई इजाफा नहीं देखा गया है. सबसे ज्यादा चर्चित लाइव सिटीज डेस्क : ख़राब मौसम और घने कोहरे ने तो एयर ट्रैफिक सिस्टम पर बुरा असर डाला ही है लेकिन पटना एयरपोर्ट के स्टाफ भी यात्रियों को फजीहत झेलवाने में कोई कसर नहीं छोड़ […]   भूजल को रोकने तथा इसका अधिकतम उपयोग करने हेतु एंव खेतों में पानी पहुचाने हेतु पक्की नाली एचडीपीई तथा पीवीसी पाइप लाईन हेतु ऋण 9 वर्ष की अवधि अनुग्रह अवधि 11 माह हेतु ऋण उपलब्ध। हरियाणा सरकार करेगी 100 कैदियों को आजाद उन्होंने बताया कि 2011-12 निगम को करीब 345 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ। बोर्ड ने बीच चौराहे शरीर से निकाला जा रहा था जहर, बुजुर्ग की… केंद्रीय महासचिव बड़कागांव विधानसभा प्रत्याशी, निवेदक संदीप कुशवाहा केंद्रीय सदस्य एवं आजसू पार्टी क Notifications 100 वर्षों के सबसे भयंकर बाढ़ से जूझ रहा है केरल, 324 लोगों ... कुमार ने कहा, 'कई पावर कंपनियों के कर्ज को पहले ही बैड लोन कैटेगरी में डाला जा चुका है और इस तरह के कुछ और लोन इस वर्ग में जा सकते हैं। हाईकोर्ट का फैसला बैंकों के लिए अच्छा है क्योंकि इससे उन्हें कोर्ट से बाहर लोन रिजॉल्यूशन के लिए अधिक समय मिलेगा।' आरबीआई के सर्कुलर में 180 दिनों के पीरियड के लिए 1 मार्च को रेफरेंस डेट बताया गया था। इसलिए बैंकरप्सी कोर्ट से बाहर लोन रिजॉल्यूशन के लिए बैंकों के पास अगस्त के अंत तक का समय है। अभी देश की 22 पर्सेंट इंस्टॉल्ड पावर जेनरेशन कैपेसिटी एनपीए है। रिजर्व बैंक के डेटा के मुताबिक, भारतीय बैंकों ने पावर सेक्टर को अप्रैल के अंत तक 5.19 लाख करोड़ रुपये का कर्ज दिया हुआ था। “स्वाधीनता पर्व” की संध्या पर सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित, विधायक डॉ.मोहन यादव हुए शामिल Allअजमेरअलवरउदयपुरकरौलीकोटाचित्तौड़गढ़चूरूजयपुरजैसलमेरजोधपुरझालावाड़झुंझुनूंडूंगरपुरदौसाधौलपुरनागौरपालीबाड़मेरबारांबीकानेरबूंदीभरतपुरभीलवाड़ाराजसमंदश्रीगंगानगरसवाई माधोपुरसिरोहीसीकरहनुमानगढ़ 12 साल के इंतजार के बाद IKEA खोलेगा पहला स्टोर, फर्नीचर के साथ मिलेगा समोसा, डोसे का भी स्वाद डेढ़ साल में 10 हजार फ्लैट दे देंगेः सुपरटेक बिजली कंपनियां दो तरह से बिजली खरीदती हैं। वह बिजली उत्पादक कंपनी से 10 या 20 साल के लिए लॉन्ग टर्म अग्रीमेंट करती है या फिर जरूरत के मुताबिक शॉर्ट टर्म अग्रीमेंट होता है। यह पावर एक्सचेंज के जरिए या फिर बाइलेटरल (द्विपक्षीय) हो सकता है। जहां से बिजली मिल जाए वहीं से कंपनियां बिजली खरीद लेती हैं। अभी इस तरह का कोई सिस्टम नहीं है कि अगर बिजली कंपनी कम दाम पर बिजली खरीदे तो उन्हें कुछ फायदा हो। बिजली कंपनियां जिस दाम पर बिजली खरीदती है वह उसके खर्च में जुड़ जाता है और आखिरकार वह खर्च उपभोक्ताओं के हिस्से में आता है। अगर बिजली कंपनियां कम दाम पर बिजली लेंगी तो उपभोक्ताओं पर भी कम बोझ पड़ेगा। पड़ोसी देशों से खाद्य तेल पर मिली रियायत रद्द करने की मांग Disclamier लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्कः एनडीए में जदयू के सहयोगी दल आरएलएसपी प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने सीएम नीतीश कुमार पर कड़ा हमला बोला है. उपेंद्र कुशवाहा का यह बयान तब आया है जब बिहार में अपराध […] गैस और इलेक्ट्रिक बिल - उपयोगिता दरों की तुलना करें गैस और इलेक्ट्रिक बिल - बिजली बचाओ गैस और इलेक्ट्रिक बिल - सर्वश्रेष्ठ विद्युत सौदे
Legal | Sitemap