लखिसराय कोडरमा इंदिरा गांधी ने ब्लू स्टार पर अटलजी से बात करने के लिए बनारस में टेलीफोन लाइन बिछवा दी थी 22 mins CARSFACTOR स्कीम का स्वरूप आरसी ब्यूरो, औरंगाबाद।  बीजेपी शासित राज्य महाराष्ट्र में राज्य विद्युत वितरण कंपनी की लापरवाही की वजह से एक गरीब ने खुदकुशी कर ली। ये घटना महाराष्ट्र के औरंगाबाद की है, जहां महाराष्ट्र राज्य बिजली बोर्ड (एमएसईबी) ने भारत नगर इलाके में रहने वाले भागिनाथ शेळके को 8 लाख 64 हजार रुपये का बिजली का भेजा दिया। इसके साथ ही 17 मई तक ये बिजली बिल न जमा करने पर 10 हजार रूपये के जुर्माने की भी बात कही गयी थी। इससे परेशान इस शख्स ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। पुलिस के अनुसार भागिनाथ शेळके अपने परिवार का भरन पोषण सब्जी बेचकर करता था। लाखों के बिजली बिल से वो काफी तनाव में था। पुलिस ने बताया है कि मरने से पहले भागिनाथ शेळके ने एक नोट भी छोड़ा है।  इस नोट में उसने भारी-भरकम बिजली का बिल होने के कारण जान देने के लिए मजबूर होने की बात लिखी है। VIDEO- जम्मू-कश्मीर में गाली गोली से नहीं, गले लगाकर बढ़ेंगे: PM मोदी लखनऊ में झमाझम बार‍िश के आसार, गर्मी से म‍िल सकती है राहत इनका कहना Altmas Khan on राहुल गांधी फोन नंबर,Whatsapp नंबर,ईमेल देवरिया निदेशालय, सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा म. प्र. मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण क. Close Sidebar इन कंपनियों ने जबलपुर सहित पूर्व क्षेत्र बिजली कंपनी अंतर्गत कई जिलों में फीडर सेपरेशन, सिस्टम स्टेबलिंग, राजीव गांधी ग्रामीण विद्युत योजना (आरजीजीवीवाय) के अरबों के काम लिए थे। कंपनियों द्वारा काम समेट लिए जाने से सभी जगह काम ठप पड़े हैं। कहीं फीडर सेपरेशन का काम आधा हुआ है तो कहीं ग्रामीण विद्युत योजना का काम अटक गया है।   साइन इन करें Story first published: Monday, September 1, 2014, 14:43 [IST] एकमुश्‍त समझौता योजना 2017-18 के तहत अवधिपार ऋणियों को ब्‍याज में 50 प्रतिशत छूट की घोषणा बेगूसराय: गया के डॉक्टर दंपत्ति कांड को लेकर आक्रोशित तैलिक वैश्य समाज ने दिया धरना June 27, 2018 ईमेल पर फ्री जानकारी के लिए सब्सक्राइब करे ब्रेकिंग व्यूज NOKIA का सबसे सस्ता 4G मोबाइल फोन जानिए फीचर CARSFACTOR Jalandhar अजमेर नगर निगम की साधारण सभा में हंगामा, पारित हुए विकास कार्यों के प्रस्ताव मेयर व डिप्टी मेयर पद के कांग्रेस प्रत्याशियों के लिए दम-खम लगा रहीं महिला समर्थक प्रोफ़ेसर दिवाकर ने कहा, ''रियल एस्टेट और शराब में सबसे ज़्यादा काला धंधा होता है, लेकिन इसे जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया है. अगर सरकार काले धन पर काबू चाहती है तो रियल एस्टेट को बेलगाम कैसे छोड़ सकती है? सरकार नहीं चाहती है कि रियल एस्टेट में लगने वाले काले धन को नियंत्रण में रखे इसलिए उसे जीएसटी के दायरे से बाहर रखा है.'' संपर्क जिले का गजेटियर ALL... Clarifications Leave a Reply यह हैं वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दर्ज 8 अनोखे कारनामें...जानकार आप भी हो जा... आरंभिक बहाव एक्टिविस्टों के सुझाव jharkhand पुलिस ने अपहृत डॉक्टर पुत्र को किया बरामद, लोजपा नेता… इस रेस्तरां से नहीं निकलता कूड़ा दीपक कुमार दास इमरान खान ने पाकिस्तान के 18वें प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ली, पहले दिन से कर्ज की दरकार 1 mins जनसांख्यिकी विद्युत उपलब्धता में 23% वृद्धि  वॉशिंग मशीन, बाइक और फ्रिज जितने का मौका Gujarat Scheme TheQuint कीवर्ड खोजें सुधेड़ में पलटा पंजाब के श्रद्धालुओं का वाहन, 3 घायल 164 Views बीईआरसी के अध्यक्ष एस के नेगी ने सोमवार यहां संवाददाताओं को बताया कि आयोग ने वित्तीय वर्ष 2016-17 में इन दोनों कंपनियों की बिजली दर में वृद्धि करना उचित नहीं समझा। उन्होंने कहा कि आयोग ने जांच के बाद 2015-16 में इन दोनों कंपनियों की राजस्व आवश्यकता में 902.92 करोड़ रुपए की कमी (गैप) पाई जिसमें कैरिंग कास्ट को जोडे जाने के बाद वित्तीय वर्ष 2015-16 का सरप्लस 1916 करोड़ रुपए आया। इस सरप्लस की समीक्षा सत्यापित वार्षिक लेखा के आधार पर नहीं है इसलिए आयोग ने वर्ष 2016-17 के राजस्व आवश्यकता में इसे सम्मिलित करना उचित नहीं समझा। अंतिम यात्रा पर अटल, दिलों में रहेंगे वाजपेयी   बिजली कंपनी में अब फिर से अनुकंपा नियुक्ति शुरू होने जा रही है। इससे नियुक्ति का इंतजार कर रहे कर्मचारियों के... वाजपेयी ने चीन-भारत रिश्तों में अहम भूमिका निभाई : चीन जवाहर लाल महथा जुलाई 17, 2017 team livecities एंटरटेनमेंट 0 नरेगा 0 से 100 - 5.75 - 5.65 सामान्य अध्ययन टेस्ट एक ही पत्थर की चट्टान से बने इस मंदिर का पांडवों ने करवाया था... मुख्यमंत्री योजना ब्रेकिंग न्यूज़ म. प्र. पावर मेनेजमेन्ट क. लि. सम्‍पर्क रहित प्रकार की लेसर वैब्रोमापी इन कंपनियों ने जबलपुर सहित पूर्व क्षेत्र बिजली कंपनी अंतर्गत कई जिलों में फीडर सेपरेशन, सिस्टम स्टेबलिंग, राजीव गांधी ग्रामीण विद्युत योजना (आरजीजीवीवाय) के अरबों के काम लिए थे। कंपनियों द्वारा काम समेट लिए जाने से सभी जगह काम ठप पड़े हैं। कहीं फीडर सेपरेशन का काम आधा हुआ है तो कहीं ग्रामीण विद्युत योजना का काम अटक गया है। Latest News हमारी दूसरी साइट्स प्रिंट मीडिया विज्ञापन नीति @JarnailSinghAAP ji please isme the dekhein yeh pahle drawing rahe they conection kaat denge maine bill bhar diya ab for bhej diya meeter bhi chal rha hai or Yeh Dear Consumer Kno: [1582812911], Please pay bill amount of Rs [6089.00] by [07-Jun-2018] to avoid penalties. हमसे कड़ी जोड़े NIOS Dled बोलीदाता सूचना प्रबंधन प्रणाली, भूमि राशि तथा लोक वित्त प्रबंधन प्रणालीAug 09, 2018 परशुराम महादेव का दो दिवसीय मेला शुरू सुरक्षा के लिए लगाए 400 से अधिक जवान By Deshwani | Publish Date: 21/3/2018 5:03:30 PM Haiti 40404 Digicel, Voila वीडियो और तस्वीरें Solar Inverter Price in India कुल्लू के बाजार रहे बंद, व्यापारियों ने दी अटलजी को श्रद्धांजलि 12% टैक्स स्लैब फीफा 2018 तारा देवी Gateway Click to share on Facebook (Opens in new window) KEEP IN TOUCH WITH US नया हरियाणा : 16 अगस्त 2018 बेगुसराय हिन्दुस्तान शिखर समागम अटल बिहारी वाजपेयी जी अपने पीछे छोड़ गए इतनी संपत्ति, जानें कौन होगा इसका अधिकारी डीईआरसी चेयरमैन पी. डी. सुधाकर ने कहा कि अभी बिजली कंपनियां सस्ती बिजली खरीदने के कोई गंभीर प्रयास नहीं करती। हम ऐसा सिस्टम बनाना चाहते हैं कि अगर बिजली कंपनियां खर्च कम करती हैं तो उसका जो फायदा होगा उसका कुछ हिस्सा कंपनी को मिलेगा। वह एक तरह से बिजली कंपनी के लिए इंसेंटिव होगा। अभी ऐसा कोई इंसेंटिव नहीं है। हम चाहते हैं कि ऐसा हो। अगर वह मेहनत करके खर्च कम करते हैं तो उन्हें इसका इनाम मिले और इससे कंस्यूमर को भी फायदा होगा। बोले धरनार्थी : विद्युत विभाग की लापरवाही के कारण साहेबपुर कमाल मेंं बिजली आपूर्ति चौपट June 28, 2018 Share Facebook Twitter वीडियो गैलरी रेलवे भर्ती परीक्षा 2018: दिल्ली, बिहार, MP के बीच और स्पेशल ट्रेनें COMMUNITY ए एस सी आर / ए ए ए सी चालकों के लिए प्रकार परीक्षण सुविधाएँ बागपत India Today Education Summit हापुड़ VIDEO: बिजली कंपनी के खिलाफ कांग्रेस ने किया प्रदर्शन 200 बड़े ऋण खातों की निगरानी करेगा आरबीआई इलेक्ट्रिक कंपनी प्रदाता - पॉवर कंपनी इलेक्ट्रिक कंपनी प्रदाता - आज बचाओ इलेक्ट्रिक कंपनी प्रदाता - इलेक्ट्रिक पावर कंपनी
Legal | Sitemap