Get business news in hindi, stock exchange, sensex news and all breaking news from share market in Hindi. Browse Navbharat Times to get latest news in hindi from Business. शेन्ज़ेन Calinmeter सह, लि Information Resources Comments रिजर्व बैंक के इस कदम से लोन लेना पड़ेगा महंगा नीदरलैंड में जल्द शुरू होगा दुनिया का पहला समुद्र में तैरता डेयरी फार्म, रोबोट निकालेंगे गायों का दूध 16 mins Mar 28, 2018, 04:11 PM IST Pumps इंडस्ट्री अनुसंधान तथा विकास क्रियाकलाप इस कार को आम बिजली के कनेक्शन से पांच घंटे में चार्ज किया जा सकता है. इतना ही नहीं इस कार की छत पर लगाए जा सकने वाले सोलर पैनल से भी इस कार को चार्ज किया जा सकता है. संपादकीय इन्हें भी पढ़ें बिजली कंपनियों को मिलेगा सस्ता कर्ज 09:41 देवघर के व्यवसायियों ने पूर्व पीएम को दी अश्रुपूर्ण विदाई Other Related Links Hindi News »Rajasthan »Barmer» जिले की अब तक की सबसे बड़ी विद्युत प्रसारण योजना June, 2016 एकल चरण बिजली मीटर 07/14/2011 - 12:21 किसानों को बर्बाद करने में मशगूल भाजपा के मंत्रियों को ढोलकी पर नचाएंगें : अभय चौटाला बैंक Comparison of various refrigerants (R-410A, R-22, R-32, R-290, R-134A, R-600A) used for Air Conditioners and Refrigerators रेडियो, टेलीविजन, मोबाइल आदि के माध्यम से बढ़ी हुई संपर्क नीति सूत्र Linkedin Web Title: अमेरिकी कंपनी देगी भारत को सस्ती सोलर पावर पूव मंत्री सह बिधायक गोमिया  Loading ... लातेहार : दीपावली से पूर्व शहर के सभी घरों तक... शामली  What's Trending बिजली बिल भरने पर ये कंपनी दे रही इनाम, 31 दिसंबर तक है समय गुजरात: एनडीआरएफ ने गोधरा नदी के बीच फंसे 12 लोगों को सुरक्षित निकाला। 1- 100                4.27 सराफा पूँजी योजना भारत में लॉन्च हुआ लग्जरी कार से भी महंगा क्रूज़र मोटरसाइकिल शेयर     A | B | C | D | E | F | G | H | I | J | K | L | M | N | O | P | Q | R | S | T | U | V | W | X | Y | Z | अन्य सामान्य समस्याएं 28% टैक्स स्लैब New conversation SAVE SAL'S PLACE, PROVINCETOWN कार्ड प्रीपेमेंट एकल चरण इलेक्ट्रिक मीटर, सर्ज संरक्षण वायरलेस पावर मीटर अधिकतम वर्तमान मिशन सत्यनिष्ठाJul 28, 2018 संगीता तिवारी विद्युत मंत्रालय में इकाई-वार कार्य का आबंटन इतने खूबसूरत हैट्स की बस दिल आ जाए... कृ‍षि वैज्ञानिक भर्ती बोर्ड (एएसआरबी) Aug 02, 2018 जैविक खेती बोकारो जिला परिसद सदस्य सह जेएमएम युवा नेता सिस्टम स्टेबलिंग - जबलपुर सिटी सर्किल, रीवा टाउन सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, सास-बहू अपने घर में चला रही थीं देह व्यापार का धंधा India ज्‍योतिष अंतिम अद्यतन तिथि: Aug 16, 2018 DRISHTI INDEPENDENCE DAY OFFER FOR DLP PROGRAMME View Details टॉलीवुड पिता के साथ कॉलेज में पढ़ते थे और एक ही रूम में रहते थे अटल, पढ़िए उनके कॉलेज टाइम का किस्सा 1800-121-6260 अशोक लीलैंड बांग्लादेश को निर्यात करेगा 300 डबल डेकर बसें अधिनियम पटना,17 अप्रैल (हि.स.)। राज्य कैबिनेट की मंगलवार को यहां हुई बैठक में इस वर्ष अप्रैल से बिजली की बढ़ी हुई टैरिफ दरों में उपभोक्ताओं को सब्सिडी देकर सरकार ने दावा किया है कि बिहार की बिजली दर सभी पड़ोसी राज्यों यूपी और पश्चिम बंगाल से काफी कम है । कैबिनेट की बैठक के बाद मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने बताया कि इस वर्ष बिजली दर में सब्सिडी के कारण राज्य सरकार के खजाने पर 4137 करोड़ का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा । पिछले वर्ष 2952 करोड़ रुपये की सब्सिडी दी गयी थी. उन्होंने बताया कि सब्सिडी के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में कुटीर ज्योति योजना के तहत बिजली की दर प्रति यूनिट 2.45 रुपये पड़ेगी । पश्चिम बंगाल में यह 3.44 रुपये और यूपी में 3.39 रुपये प्रति यूनिट है । इसी तरह शहरी और ग्रामीण क्षेत्र की बिजली दरें भी पड़ोसी राज्यों से कम हैं । इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में घरेलू उपयोग और कृषि व सिंचाई के लिए बिजली दर में कोई बढ़ोतरी नहीं की गयी है । इस पर वर्तमान दर से ही बिजली बिल का भुगतान करना होगा । शहरी क्षेत्रों की बिजली दर में महज 10 पैसे प्रति यूनिट की ही बढ़ोतरी की गयी है | अब यह 5.30 रुपये प्रति यूनिट से बढ़कर 5.40 रुपये हो गयी है । मुख्य सचिव ने कहा कि बरौनी, कांटी और नवीनगर बिजलीघरों को एनटीपीसी को ट्रांसफर कर दिया गया है । इन यूनिटों से राज्य को अपने स्तर पर बिजली उत्पादन काफी महंगा पड़ रहा था । बरौनी थर्मल पॉवर स्टेशन से अभी बिजली उत्पादन में प्रति यूनिट 5.75 रुपये का खर्च आ रहा है, जबकि बाढ़ एनटीपीसी से बिजली खरीदने पर यह खर्च 4.25 पैसे प्रति यूनिट ही पड़ेगा । इस वजह से सभी बिजली उत्पादन ईकाइयों को एनटीपीसी को ही स्थानांतरित करने का निर्णय लिया गया है । इससे सरकार को 875 करोड़ रुपये सालाना की बचत होने का अनुमान है । वर्ष 2017-18 के लिए बिजली उपलब्धता करीब 27 हजार 178 मिलियन यूनिट है, जबकि 2018-19 के लिए बिजली उपलब्धता का लक्ष्य 29 हजार 403 मिलियन यूनिट निर्धारित किया गया है, जो पिछले वर्ष से 8% अधिक है । सब्सिडी के बाद बिजली दर :-कुटीर उद्योग- 2.45,घरेलू (ग्रामीण)- 3.17,घरेलू (शहरी)- 5.40,गैर-घरेलू (ग्रामीण)- 4.00,गैर-घरेलू (शहरी)- 8.25,कृषि एवं सिंचाई-1 - 1.50,कृषि एवं सिंचाई-2 - 7.75,औद्योगिक सेवा-1 - 8.35,(19 केवी तक) औद्योगिक सेवा-2 - 8.32 (19 केवी से ज्यादा और 74 केवी से कम) औद्योगिक सेवा-1 - 8.67,(11 केवी) औद्योगिक सेवा-2 - 8.60,(33 केवी), औद्योगिक सेवा-3 - 8.01,(132 केवी) (सभी आंकड़े रुपये प्रति यूनिट में) हिन्दुस्थान समाचार/अरुण/शंकर अटल को याद कर बेहद भावुक हो गए कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष, सुनाया वो किस्सा 0-200 यूनिट हिन्दी में कैसे लिखें? aajtak.in[Edited By : स्नेहा] बिजली के सीमापार व्यापार के लिए भारत सरकार के निर्दिष्ट प्राधिकरण, केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण के अनुसार भारत पहली बार बिजली का निवल आयातक के बजाय निवल निर्यातक बन गया है। वर्ष 2016-17 (अप्रैल से फरवरी 2017) के दौरान भारत ने नेपाल, बांग्लादेश और म्यांमार को 579.8 करोड़ यूनिट बिजली निर्यात की, जो भूटान से आयात की जाने वाली करीब 558.5 करोड़ यूनिट की तुलना में 21.3 करोड़ यूनिट अधिक है। विदित हो कि सीमा पार विद्युत व्यापार प्रारंभ होने के बाद से भारत भूटान से बिजली आयात करता रहा है। भूटान भारत को औसतन प्रतिवर्ष 500-550 करोड़ यूनिट बिजली की आपूर्ति करता रहा है।  HI-FI कैथल आगामी रेगुलेशन्स सर्वेक्षण 2018 इधर बिजली का बड़ा उपभोक्ता रेलवे है, जिसका कहना है कि उद्योग जगत में लागत घटाने के लिए, बाज़ार में बने रहने के लिए बड़े उपभोक्ताओं को सस्ती बिजली देनी चाहिए। आपको बता दें कि पश्चिम मध्य रेल्वे विद्युत वितरण कंपनी से बिजली 7 से 8 रुपए प्रति यूनिट पर बिजली खरीद रही थी। लेकिन खुले बाज़ार में उसे ये सिर्फ 4 से 5 रुपए प्रति यूनिट की कीमत पर खरीदी की। जिससे उसे वित्तीय वर्ष में दो सौ करोड़ रुपयों से ज्यादा का फायदा हुआ है। देवशयनी एकादशी 23 जुलाई को : इस दिन व्रत करने से पापों का होता है नाश, 4 महीनों तक नहीं होते शुभ कार्य 43 mins electricity charges rajasthan electricity hike electricity rates in rajasthan Power tariff comparison of electricity rates in India दिल्ली में बिजली की दरों में फिक्स चार्ज में बढ़ोतरी अन्य... देखें भारत के आखिरी गांव कहे जाने वाले छितकुल की अनछुई प्राकृतिक... बिजली कंपनी का काम छोड़कर भागीं नौ और कंपनियां बिहार कैबिनेट निर्णय 1 सितम्बर 2015: 50 एजेंडों पर लगी मुहर फिट CONGRESS ENTANGLE VIRBHADRA Haryana News अगर करा रखी है FD और RD तो इन 5 बातों का रखें ध्यान वृष योर मनीः छात्रों के लिए बचत और निवेश के टिप्स सिटिजन Q पूरी स्टोरी पढ़ें » मिल सकती है ज्यादा छूट दिल्ली में ठोस कचरा गंभीर समस्या, SC ने कहा- एक कमेटी गठित करें एलजी सस्ती बिजली की राह में रोड़ा बनीं कोयला कंपनियां 1 अभिषेक सिंह Paresh Agarwal‏ @semanticscorp 18 Aug 2015 Jammu & Kashmir प्रारंभिक परीक्षा की रणनीति टैक्‍स सस्ते पावर प्लांट : अभी दिल्ली को करीब 65 पर्सेंट पावर एनटीपीसी से मिलती है। एनटीपीसी के दादरी 1, दादरी 2, अरावली और बदरपुर पावर प्लांट मेन हैं। ये चारों प्लांट ही एनटीपीसी के सबसे महंगे पावर प्लॉटों में से हैं। इनसे महंगी बिजली मिलती है और डिस्कॉम को वह खर्च उपभोक्ताओं से ही लेना पड़ता है। अगर दिल्ली को सिंगरौली, रिहानहिंद जैसे सस्ते पावर प्लांट से बिजली मिले तो दिल्ली में बिजली के रेट कम हो सकते हैं। लेकिन इसमें पावर मिनिस्ट्री की मदद चाहिए। Share: Car Loans in India that are most affordable आरटीएल, नोएडा बिहार : जानें क्‍यों बिजली कंपनी ने लार्सन एंड टूब्रो को दिया अल्टीमेटम नालंदा : खास खबर – रहने के लिहाज़ से पटना से... दीनदयाल योजना में करीब 96 करोड़ के कार्य एलआईसी कैंसर कवर प्लान 905 – www.licindia.in गोपनियता राज्य विद्युत उपभोक्ता परिषद के अध्यक्ष अवधेश कुमार वर्मा ने लाइन लॉस का पूरा भार बिजली उपभोक्ताओं पर न डालने की वकालत की। उन्होंने ओडिशा का उदाहरण देते हुए कहा कि बिजली कंपनियों के घाटे के आधार पर जो रेग्युलेटरी सरचार्ज लगाया जाता है। उसका 50 प्रतिशत हिस्सा उपभोक्ताओं और 50 प्रतिशत हिस्सा बिजली कंपनियों को देना चाहिए। ताकि बिजली कंपनियों की लापरवाही का खामियाजा ईमानदार उपभोक्ताओं पर न पड़े। क्रमांक 2067                                                                                                                 एचएस शर्मा/जोशी शेयर पैनल को बंद करें किसान समाचार प्रकाश उद्देश्यों के लिए मिट्टी के तेल के प्रतिस्थापन द्वारा पर्यावरण उन्नयन Energy Efficient Star Rated Power Inverters in India कन्या मोगा टिप्स – ट्रिक्स एक लाख की जनसंख्या वाले शहर में 29 हजार लोगों को असंगठित मजदूर तो बना दिया गया लेकिन जिन बिजली योजनाओं का फायदा लेने के लिए ये मजदूर बने थे उन योजनाओं में केवल 11 हजार लोग ही जुड़ पाए हैं। अधिकांश असंगठित पंजीकृत मजदूर बिजली कंपनी के दायरे में ही नहीं आ रहे हैं। इस कारण वे योजना से नहीं जुड़ पाए हैं। नपा में असंगठित मजदूरों के रजिस्ट्रेशन के लिए रोज लंबी कतारें लग रही हैं। अब तक 29 हजार लोग असंगठित मजदूर बन गए हैं। 29674 असंगठित मजदूर बनने के बावजूद बिजली योजनाओं का लाभ केवल 11679 लोगों को ही मिला है। अधिकांश असंगठित मजदूर इन बिजली योजनाओं के फायदे से दूर हैं। बिजली बिल माफी योजना में 6684 पुस्तकें हमारे बारे में  |  हमसे संपर्क करें  |  विज्ञापन दें  |  बुकमार्क  |  अस्वीकृति  |  गोपनीयता कथन  |  उपयोग की शर्तें  |  करियर |  बिजली स्विच करें - ऊर्जा रेटिंग बिजली स्विच करें - इलेक्ट्रिक बिल पर पैसा बचाएं बिजली स्विच करें - विद्युत कंपनी आज स्विच करें
Legal | Sitemap