बिजली कंपनियों के घाटे की पड़ताल नहीं की गई और हर साल कंपनियां अपने घाटे को कानूनी जामा पहनाती जा रही हैं, लेकिन सरकार की लापरवाही की वजह से उनका दावा कानूनी तौर पर पुख्ता हो रहा है, क्योंकि सरकार ने घाटे को लेकर कंपनियों से न तो कोई पूछताछ की और न ही इस बारे में कोई जानकारी ही जुटाई गई, नतीजा ये हुआ कि साल दर साल कंपनियों के घाटे की फाइलें सरकार के पास जमा हो रही है और एक तरह से सरकार की मौन स्वीकृति इस घाटे को मिल रही है, अब अगर मामला कोर्ट में भी जाता है, तो यहां सरकार की लापरवाही से खुद उसका पक्ष कम हो रहा है, ऐसे में दिल्ली में टैरिफ बढ़ने की आशंका मजूबत हो रही है. Your website: अलवर बुजुर्ग की मदद को दौड़े कुत्ते, इंसान नहीं Team Burrp यूटिलिटी न्यूज देश भर में सुहागिनों ने मनाया हरियाली तीज का पर्व विडियो JarnailSinghAAP's profile पंचायत चुनाव: प. बंगाल में भाजपा को सुप्रीम कोर्ट से झटका जीवन की सच्चाई चर्चित खबरें Mobile Apps शराब, पेट्रोलियम, रियल एस्टेट और बिजली GST से बाहर क्यों? Seriously a educated person I only become a good leader Subject Ooops... Error 404 August 13, 2018 Clearing the confusion about the coating and material of the tank in water heaters बीबीसी से संपर्क फोरलेन प्रभावितों ने डीसी को सुनाई दो टूक,... Copyright © 2018 Samachar Agency. Proudly Designed : By WebsitePoint. . केरल में बारीश का कहर जारी, मरने वालों की संख्या हुई 39 हेमंत कुमार गुरु सरायकेला विधानसभा में विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता ने केजरीवाल सरकार पर आरोप लगाया है कि बिजली वितरण कंपनियों से सरकार की मिलीभगत के कारण बिजली उपभोक्ताओं को सस्ती बिजली नहीं मिल पा रही है। जनन अटल जी के अंतिम दर्शन करने पहुचे लालकृष्ण आडवाणी अधिक भारत की खबरें कार्यपालक दंडाधिकारी, बेरमो, तेनुघाट पर्यावरण और सतत विकास पर महात्मा गांधी उत्तराखंड में एक अप्रैल से बिजली महंगी   क्राइम हेल्थ शिक्षा वायरल न्यूज़ धर्म-कर्म साइंस-टेक पूरे वर्ष का राजस्व संग्रह 8000 करोड़ पर पहुंचा : बिजली कंपनी के आकलन के अनुसार शनिवार को समाप्त हुए वित्तीय वर्ष राजस्व संग्रह 8000 करोड़ तक पहुंच गया है। फरवरी तक यह 6700 करोड़ रुपए था और मार्च में देर शाम तक 1300 करोड़ रुपए के राजस्व संग्रह की रिपोर्ट मिल चुकी थी। जबकि पूर्व के वित्तीय वर्ष में बिजली कंपनी का राजस्व 5800 करोड़ रुपए था। बिजली कंपनी ने इस राशि में सरकार द्वारा उपभोक्ताओं को सब्सिडी मद में उपलब्ध कराए जाने वाली राशि नहीं जोड़ी है। यह राशि लगभग 3000 करोड़ रुपए है। विकास खण्ड लंबे समय तक हेल्दी जीवन जीना है तो अपनाएं 6 मंत्र 'असम समेत 14 राज्यों पर बिजली उत्पादक कंपनियों का करोड़ों बकाया' ASIAN GAMES 2018   प्रिंट प्रयोक्ता इंटरफ़ेस सोलहवां सवाल –  किस तरह से, यह योजना आर्थिक विकास और रोजगार सृजन की सुविधा प्रदान करेगी? आधार कार्ड में गलत हो गई जन्मतिथि बदलवाना हुआ मुश्किल, जानें नया नियम आगंतुक संख्या: वालीवुड जल उपलब्धता के आधार पर कृषकों को सिंचाई कार्य के लिए नलकूपों से जल दोहन हेतु डीजल/विद्युत पम्प सैट के लिए 9 वर्ष हेतु ऋण उपलब्ध- Copyright © 2018 Samachar Agency. Proudly Designed : By WebsitePoint. . NDTVBusinessHindiMoviesCricketGood TimesFoodTechAutoAppsPrime विवरणिका मुरादाबाद जन धन खाताधारकों के लिए 15 अगस्त को बड़ी घोषणाएं .. 17 एशियन गेम्स और 68 साल का इतिहास, एक इलक में जानिए सब कुछ Remember me · Forgot password? पाकुड patna लाइन लॉस का लक्ष्य हासिल करने में फिसड्डी रहे अलग-अलग सर्किल के 7 चीफ इंजीनियरों को नियामक आयोग ने नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा है। इनमें बरेली, शाहजहांपुर, फैजाबाद, बागपत, सहारनपुर, बुलंदशहर और रामपुर के चीफ इंजीनियर शामिल हैं। बाड़मेर Most Read Facebook Messengerसब्सक्राइब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि बिहार में बिजली के क्षेत्र में काफी काम हुआ है। संसाधन सीमित हैं, पर सुधार जारी है और इसकी बदौलत ही बिहार नई ऊंचाइयों को छुएगा। अब ऐसी व्यवस्था होनी चाहिए कि पूरे देश में बिजली दर एक हो। -25 डिग्री सेल्सियस से 85 डिग्री सेल्सियस देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें यूट्यूब पर रातो रातो फेमस हुए ये स्टार Mar 28, 2018, 04:11 PM IST सांकेतिक फोटो। - अनमीटर्ड ग्रामीण घरेलू उपभोक्ताओं की 180 व 200 रुपये प्रति किलोवाट के स्थान पर अब 300 रुपये प्रति किलोवाट की दर से भुगतान करना पड़ेगा। 1 अप्रैल से इन उपभोक्ताओं की दर 100 रुपये प्रति किलोवाट और बढ़ जाएगी और इन्हें 400 रुपये प्रति किलोवाट के हिसाब से बिल चुकाना होगा। पंजाब सरकार ने बिजली दरें बढ़ाकर आम आदमी पर बोझ डाला HSSC  केरल में बारीश का कहर जारी, मरने वालों की संख्या हुई 39 ब्यूरो/अमरउजाला, लखनऊ Updated Sat, 27 May 2017 10:46 AM IST WE ARE SOCIAL सम्पर्क विद्युत प्रदायक बदलें - मेरे पास सस्ता बिजली विद्युत प्रदायक बदलें - ऊर्जा लागत की तुलना करें विद्युत प्रदायक बदलें - मेरे पास बिजली उपयोगिता कंपनियां
Legal | Sitemap