ऐक्सेसरीज बिजली, दूध, अनाज, सब्जियां सस्ती, तेल घी होगा महंगा, GST से आम लोगों को और क्या-क्या फायदा, पढ़ें पूरी रिपोर्ट असिस्टेंट इंजीनियर: 19110-46320 रुपये समृद्ध मध्यप्रदेश के लिये हर नागरिक का सहयोग और भागीदारी जरूरी, ग्राम सरोवर अभिकरण बनेगा, पाँच हजार तालाब बनेंगे, रोजगार देने वाले उद्योगों को मिलेंगी रियायतें, जनजातीय क्षेत्रों में हर गाँव में बनेगी जनजातीय अधिकार सभा, मुख्यमंत्री श्री चौहान का स्वतंत्रता दिवस पर संदेश 16/08/2018 प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सौभाग्य-प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना की शुरुआत की, जिसका उद्देश्य उन सभी घरों तक बिजली पहुँचाना है, जहाँ अभी तक नहीं पहुँची  है। सस्ती दर पर बिजली के साथ ही पंजीकृत श्रमिकों के बिजली के बिल भी माफ, मप्र शासन की अभिनव पहल FB पर वाजपेयी की आलोचना किये जाने के बाद प्रोफेसर की जमकर पिटाई, जिंदा जलाने की हुई कोशिश : प्रोफेसर इंडिया टुडे टीवी Send Katihar इस फैसले के अनुसार शिवराज सरकार को वर्तमान में बिजली कंपनियों को 5179 करोड़ रूपए जमा करने के बाद ही इस योजना को लागू करना चाहिए। लेकिन हाईकोर्ट ने पिछले दिनों इस संबंध में दायर उनकी याचिका खारिज कर दी। राज्य सरकार के इस फैसले के पीछे चुनावी लाभ लेने की मंशा स्पष्ट है। लिहाजा, हाईकोर्ट को सरकार से इस योजना लागू करने के लिए अग्रिम राशि जमा करानी चाहिए थी। हाईकोर्ट द्वारा याचिका को खारिज करने के बाद नागरिक उपभोक्ता मार्गदर्शक मंच की उम्मीदें सुप्रीम कोर्ट पर टिकीं हैं। इन्हें भरोसा है कि उनकी याचिका दी गई दलीलों से सहमत होते हुए देश की सर्वोच्च अदालत उक्त आदेश को पलटेगी। ग्रामीण ऊर्जा चर्चा मंच उत्तराखन्ड एडमिशन प्रक्रिया सुपौल Hindi NewsNDTV India LiveWorld News in HindiSports News in HindiCricket News in HindiBollywood News in HindiArchivesAdvertiseAbout UsFeedbackDisclaimerInvestorComplaint RedressalCareersContact UsSitemap© Copyright NDTV Convergence Limited 2018. All rights reserved. इस पोस्ट को शेयर करें ईमेल दान Clear Study Doubts खाना Haryana News in Hindi घरेलू एवं बीपीएल उपभोक्ता(10 पैसे कम) आयुषमान भारत योजना स्वास्थ्य मित्र नौकरियां http://www.nainitalsamachar.in/ Copyright © 2018 NAVODAYATIMES. All Rights Reserved Next 14 धर्म क्षेत्र झटका : बिहार में बिजली पांच फीसदी हुई महंगी, जानें क्या है नई दर  National News Hindi(देश) German Deutsch पिंटू दत्ता इंटीरियर डैकोरेशन Subscribe Now 17 एशियन गेम्स और 68 साल का इतिहास, एक इलक में जानिए सब कुछ Weird Stories Send OTP saubhagya yojna बिजली बिल जमा करने लंबी कतार 2 हजार लोगों ने जमा किए 34 लाख August 18, 2018 seoni 0 उत्पाद का नाम: उपयोग का समय (टीओयू) मल्टी टैरिफ एकल चरण एसटीएस प्रीपेड विद्युत मीटर सोने की गिन्नी (GOLDGUINEA) ‘सबके लिए बिजली’ (पावर फॉर ऑल) के लक्ष्य की पूर्ति एक बहुत बड़ी चुनौती है। इसके मद्देनजर आम लोगों को नए कनेक्शन सरल और आकर्षक शर्तों पर उपलब्ध कराना आवश्यक है। साथ ही बिजली का इस्तेमाल करने वाले सभी लोगों के कनेक्शन लेने से बिजली के वैध उपयोग को बढ़ावा मिलेगा।  बाजार भाव 30 जून 2018 पिछले वर्ष विनियामक आयोग की अनुशंसा के बाद राज्य सरकार ने अलग-अलग स्लैब में सब्सिडी की घोषणा की थी लिहाजा इस बार भी विभाग के मुखिया ने सब्सिडी देने की बात कही है। हालांकि सरकार संबंधित उपभोक्ताओं को उसके बिजली बिल पर कितने रुपये की सब्सिडी देगी इसका खुलासा नहीं हुआ है। लेकिन, बिजली की शुल्क में बढ़ोतरी के तुरंत बाद ही विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने सब्सिडी देने की बात कही है। नियामक आयोग के सचिव पीएन सिंह ने कहा कि विद्युत वितरण कंपनी ने वर्ष 2018-19 के लिए औसत लागत 6.44 पैसा के मुताबिक 120 करोड़ की राजस्व कमी बताई थी। आयोग ने परीक्षण के बाद राजस्व कमी के स्थान पर 531 करोड़ रुपये के अधिक राजस्व की गणना को मान्य किया। आयोग ने बिजली कंपनी की मांग 6.44 पैसे की जगह 6.20 पैसे की दर को मान्य किया है। इसके लिए आयोग ने कॉस्ट डाटा बुक में संशोधन करके आदेश जारी कर दिए हैं। इस फैसले से 5 किलोवाट तक का नया कनेक्शन लेने वालों को 50 रुपये प्रति किलोवाट से लेकर 300 रुपये प्रति किलोवाट तक का फायदा होगा। यह व्यवस्था छोटे उद्योगों को छोड़कर सभी श्रेणी के उपभोक्ताओं पर लागू होगी। world दिल्ली : वाजपेयी की हालत बेहद नाजुक, थोड़ी देर में मेडिकल बुलेटिन – बिहार के मुख्यमंत्री पहुंचे ऐम्स दिल्ली। Be the first to comment VIDEO: बैंक में व्यापारी के 60 हजार पार, CCTV में कैद हुई वारदात CONNECT WITH US प्रतापगढ़ मुख्य खबरें झटका : बिहार में बिजली पांच फीसदी हुई महंगी, जानें क्या है नई दर  EDIT: There is a protest happening in Toronto to fight this!! Please check out the event and come if you… Read more Required fields are marked * Facebook © 2018 Hrvatski राज्यपाल का संदेश इस्तेमाल की शर्तें ईडीएफ यह प्रोजेक्‍ट अरेवा से टेक ओवर करेगी। अरेवा ने यह कॉन्‍ट्रैक्‍ट 2009 में हासिल किया था। ईडीएफ, इसमें 84 फीसदी हिस्‍सेदारी फ्रांस सरकार की है, ने जुलाई 2015 में अरेवा में नियंत्रण हिस्‍सेदारी हासिल करने के बाद इस प्रोजेक्‍ट को अपने हाथ में लिया है। अरेवा, इसमें भी फ्रांस सरकार की बड़ी हिस्‍सेदारी है, इस प्रोजेक्‍ट को शुरू नहीं कर पाई, क्‍योंकि एनपीसीआईएल के साथ प्रोजेक्‍ट कॉस्‍ट को लेकर कुछ विवाद था और स्‍थानीय लोगों भी इस प्रोजेक्‍ट का विरोध कर रहे हैं। जैतापुर भूकंप की दृष्टि से सक्रिय क्षेत्र में स्थित है, इसलिए पर्यावरणविद इससे भारी नुकसान की आंशका जता रहे हैं। अपना जिला चुने सब्सक्राइब कीजिए Fraud Complaints इस संबंध में डीएसपी हेड क्वार्टर प्रकाश सोय ने जानकारी देते हुए बताया कि मेले में अवैध रूप से जुआ खेलवाने को लेकर लालजीराम के साला बबलू बिरुवा, कुशल तियु के अलावा मेले में फुटबॉल आयोजन समिति के अध्यक्ष सीताराम सोरेन, उपाध्यक्ष जितेंद्र बिरुवा, कोषाध्यक्ष माधवचंद्र बिरुवा सह कोषाध्यक्ष रामेश्वर बिरुवा संग्रहकर्ता दुम्बी बिरुवा के खिलाफ जुआ खेलाने का मामला दर्ज किया गया है। पंजाब और दिल्ली के मुख्यमंत्रियों ने केरल को 10 करोड़ रुपए देने की... भारतीय विद्युत क्षेत्र में आरएसओपी की प्रासंगिकता : 150 यूनिट-- रु.4.40--4.90 सैंड आर्टिस्ट ने जुहू बीच पर भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी को... 09/07/2010 - 11:38 Type the word given below Healthy Food पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने भी यह बात मानी है कि उज्ज्वला योजना के तहत कनेक्शन लेने वालों में प्रति व्यक्ति सालाना खपत औसतन 4.32 सिलेंडरों की ही है. Promoted Tweet Contact us: [email protected] Story India Today Diaries इस्पात उद्योग समाचार News राज्य शासन की योजनाएं बिजली सस्ती करने की तैयारी में है सरकार इमारान खान ने पाकिस्तान के 22वें पीएम के रूप में ली शपथ 3 mins Create password VIDEO: चयनित अभ्यर्थियों ने मुर्गा बनकर किया प्रदर्शन, नियुक्ति देने की मांग साबरा खातून ऐक्सेसरीज पावर कॉरपोरेशन की चारों बिजली कंपनियों के उपभोक्ताओं पर रेग्युलेटरी सरचार्ज प्रथम अलग-अलग लागू है। पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम में सबसे ज्यादा 2.84 फीसदी। एक हजार रुपये पर करीब 28 रुपये, दक्षिणांचल में 1.14 फीसदी। एक हजार पर 11 रुपये, पूर्वाचल के 1.03 फीसदी। रेडियो, टेलीविजन, मोबाइल आदि के माध्यम से बढ़ी हुई संपर्क घरेलू बिजली बिलों का भुगतान समय से नहीं कर पाने के कारण मूल बकाया राशि और उस पर अधिरोपित सरचार्ज के कारण उपभोक्ता के बिलों की राशि बहुत ज्यादा हो जाती है। मुख्यमंत्री जन कल्याण (संबल) योजना में पंजीकृत श्रमिकों और बीपीएल उपभोक्ताओं के घरेलू बिजली कनेक्शन की पुरानी बकाया राशि का निराकरण कर उन्हें नियमित बिल भुगतान करने के लिये प्रेरित करने के उद्देश्य से ही यह माफी स्कीम लागू की गई है। स्कीम का प्रभाव जून 2018 तक की कुल बकाया राशि पर लागू होगा। इस पोस्ट को शेयर करें ईमेल प्रवेश संरक्षण प्रयोगशाला B'Day Spl: 11 साल की उम्र में दलेर मेहंदी ने उठाया था इतना बड़ा कदम ज्योतिष धर्म August 18,2018 10:27:11 AM मेसेज देख हुई लड़ाई, दूसरी मंजिल से गिरी विवाहिता iOS tegbir singh pannu‏ @tegbirpannu Jun 7 आशिष रंजन By admin September 22, 2016 विधान सभा चुनाव 2017: उप्र में भाजपा राम, मोदी और माया मॉडल पर करेगी भरोसा Sri nagar Updated Sat, 21 Jul 2012 12:00 PM IST मार्केटिंग ऑफिसर गोमिया बिजनेस न्यूज़ ज्यादा जानकारी के लिए लिंक: http://www.mahadiscom.in/Advertisement_3_2015.shtm Stories You May be Interested in शनि देव की पूजा के ये 4 आसान उपाय खोल देते हैं किस्मत का दरवाजा 41 mins Newer Post Older Post Home प्रकृति एवं प्रक्रिया हेल्थ न्यूज़ राजकीय शोक के चलते IPPB की शुरूआत टली होमराज्य Bihar Cafe We the citizens of the city of Murfreesboro, petition the city to honor the initial plans agreed upon by its residents and City Council members to develop “Blackman Park” along Interstate 840 and Veterans… Read more Instagram जमुई Best Washing Machines in India इसलिए, शहरी इलाकों में और ग्रामीण क्षेत्रों में सभी बिना बिजली वाले परिवारों के लिए अंतराल अवरोध,अंतिम छोर तक बिजली और बिजली कनेक्शन जारी करने के मुद्दों को सुलझाने के लिए सौभाग्य योजना को शुरू किया गया है। ऊर्जा लागत की तुलना करें - विद्युत लागत कैलकुलेटर ऊर्जा लागत की तुलना करें - गैस और इलेक्ट्रिक आपूर्तिकर्ता ऊर्जा लागत की तुलना करें - बिजली स्विच करें
Legal | Sitemap