इन 10 तरीकों से नारियल तेल का इस्तेमाल करेंगे तो दिखेंगे यंग पटना,17 अप्रैल (हि.स.)। राज्य कैबिनेट की मंगलवार को यहां हुई बैठक में इस वर्ष अप्रैल से बिजली की बढ़ी हुई टैरिफ दरों में उपभोक्ताओं को सब्सिडी देकर सरकार ने दावा किया है कि बिहार की बिजली दर सभी पड़ोसी राज्यों यूपी और पश्चिम बंगाल से काफी कम है । कैबिनेट की बैठक के बाद मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने बताया कि इस वर्ष बिजली दर में सब्सिडी के कारण राज्य सरकार के खजाने पर 4137 करोड़ का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा । पिछले वर्ष 2952 करोड़ रुपये की सब्सिडी दी गयी थी. उन्होंने बताया कि सब्सिडी के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में कुटीर ज्योति योजना के तहत बिजली की दर प्रति यूनिट 2.45 रुपये पड़ेगी । पश्चिम बंगाल में यह 3.44 रुपये और यूपी में 3.39 रुपये प्रति यूनिट है । इसी तरह शहरी और ग्रामीण क्षेत्र की बिजली दरें भी पड़ोसी राज्यों से कम हैं । इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में घरेलू उपयोग और कृषि व सिंचाई के लिए बिजली दर में कोई बढ़ोतरी नहीं की गयी है । इस पर वर्तमान दर से ही बिजली बिल का भुगतान करना होगा । शहरी क्षेत्रों की बिजली दर में महज 10 पैसे प्रति यूनिट की ही बढ़ोतरी की गयी है | अब यह 5.30 रुपये प्रति यूनिट से बढ़कर 5.40 रुपये हो गयी है । मुख्य सचिव ने कहा कि बरौनी, कांटी और नवीनगर बिजलीघरों को एनटीपीसी को ट्रांसफर कर दिया गया है । इन यूनिटों से राज्य को अपने स्तर पर बिजली उत्पादन काफी महंगा पड़ रहा था । बरौनी थर्मल पॉवर स्टेशन से अभी बिजली उत्पादन में प्रति यूनिट 5.75 रुपये का खर्च आ रहा है, जबकि बाढ़ एनटीपीसी से बिजली खरीदने पर यह खर्च 4.25 पैसे प्रति यूनिट ही पड़ेगा । इस वजह से सभी बिजली उत्पादन ईकाइयों को एनटीपीसी को ही स्थानांतरित करने का निर्णय लिया गया है । इससे सरकार को 875 करोड़ रुपये सालाना की बचत होने का अनुमान है । वर्ष 2017-18 के लिए बिजली उपलब्धता करीब 27 हजार 178 मिलियन यूनिट है, जबकि 2018-19 के लिए बिजली उपलब्धता का लक्ष्य 29 हजार 403 मिलियन यूनिट निर्धारित किया गया है, जो पिछले वर्ष से 8% अधिक है । सब्सिडी के बाद बिजली दर :-कुटीर उद्योग- 2.45,घरेलू (ग्रामीण)- 3.17,घरेलू (शहरी)- 5.40,गैर-घरेलू (ग्रामीण)- 4.00,गैर-घरेलू (शहरी)- 8.25,कृषि एवं सिंचाई-1 - 1.50,कृषि एवं सिंचाई-2 - 7.75,औद्योगिक सेवा-1 - 8.35,(19 केवी तक) औद्योगिक सेवा-2 - 8.32 (19 केवी से ज्यादा और 74 केवी से कम) औद्योगिक सेवा-1 - 8.67,(11 केवी) औद्योगिक सेवा-2 - 8.60,(33 केवी), औद्योगिक सेवा-3 - 8.01,(132 केवी) (सभी आंकड़े रुपये प्रति यूनिट में) हिन्दुस्थान समाचार/अरुण/शंकर Leave a Reply विघापतिनगर की साधना बिहार फुटबॉल टीम में चयनित ,खेलप्रेमियों में खुशी राशि इस खबर के स्रोत का लिंक: (खंड-13: स्वास्थ्य, शिक्षा, मानव संसाधनों से संबंधित सामाजिक क्षेत्र/सेवाओं का विकास और प्रबंधन) बाड़मेर क्या पहाड़ी गुफा में बचा कर रखी जा सकती है बिजली #अलविदा अटल #INDvENG #रेलवे भर्ती #अनोखी #नंदन कबीर अमृतवाणीः सुुनिए कबीरदास के 10 बेहतरीन दोहे महोबा विवो वी7 32जीबी (मैट ब्लैक, 4जीबी रैम) Hindi News »Madhya Pradesh »Shivpuri» अब बिजली कंपनी में अनुकंपा नियुक्ति शुरू बीईआरसी के अध्यक्ष एस के नेगी ने सोमवार यहां संवाददाताओं को बताया कि आयोग ने वित्तीय वर्ष 2016-17 में इन दोनों कंपनियों की बिजली दर में वृद्धि करना उचित नहीं समझा। उन्होंने कहा कि आयोग ने जांच के बाद 2015-16 में इन दोनों कंपनियों की राजस्व आवश्यकता में 902.92 करोड़ रुपए की कमी (गैप) पाई जिसमें कैरिंग कास्ट को जोडे जाने के बाद वित्तीय वर्ष 2015-16 का सरप्लस 1916 करोड़ रुपए आया। इस सरप्लस की समीक्षा सत्यापित वार्षिक लेखा के आधार पर नहीं है इसलिए आयोग ने वर्ष 2016-17 के राजस्व आवश्यकता में इसे सम्मिलित करना उचित नहीं समझा। विवो वी 7 प्लस 64 जीबी (मैट ब्लैक, 4 जीबी रैम) More Story Spread the word निम्नदाब कृषि उपभोक्ता August 2017 -A A +A पात्र तथा जिम्‍मेदारियॉं loancheapinterest ratelowलोनबिलऋणब्याजदरकम मनीष सिसोदिया के खिलाफ मानहानि की शिकायत खारिज Mumbai News in Hindi गोपनीयता यूएस-चीन ट्रेड वॉर की वजह से भारत जारी रख सकता है ईरान से तेल आयात google + विद्युत विभाग शहडोल के अधीक्षक अभियंता के के अग्रवाल के मुताबिक संभाग में विद्युत सुदृढि़करण के कार्य चल रहे हैं। आईपीडीएस, दीनदयाल और सौभाग्य योजना की लगातार मॉनीटरिंग हो रही है। संबंधित ठेकेदारों को लगातार कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए जा रहे हैं। मनी बिज़नस बिजली helo अंदरखाने दोनों की मिलीभगत है। इसका ताजा उदाहरण यह है कि बिजली कंपनियां ‘पावर परचेज एडजस्टमेंट चार्जेज’ के नाम से हर तीसरे महीने बिजली के दाम बढ़ाने के लिए दिल्ली विद्युत विनियामक आयोग (डीईआरसी) को प्रतिवेदन देती थीं। डीईआरसी बिजली कंपनियों के दावों के अनुसार हर तीसरे महीने बिजली के दाम चार फीसद से लेकर 14 फीसद तक बढ़ा देता था। BBC News हिंदी Navigation इस योजना की संभावित लागत 16320 करोड़ रुपए होगी।  झगड़े के दौरान बदमाशों ने की फायरिंग, महिला की मौत पुरुषों का उत्पीड़न रोकने के लिए पिंडदान power company jobs Show Full Articleं Home » व्यापार » पसंद की बिजली कंपनी चुन सकेंगे लोग! ☰ Water Heaters मेल बॉक्स कुल आगंतुक : 43083252 CONGRESS ENTANGLE VIRBHADRA निष्‍पादन रिपोर्ट जल ज्ञानकोश Not on Twitter? Sign up, tune into the things you care about, and get updates as they happen. 5:57 - प्रत्यय अमृत, प्रधान सचिव, ऊर्जा विभाग  फाइनेंशियल प्लानिंग से जुड़े सवाल-जवाब ગુજરાતી 20 हजार की रिश्वत लेते पकडे गए थे पावसे दिल्ली कांग्रेस ने बिजली सस्ती करने के केजरीवाल सरकार के दावों को जनता से खिलवाड़ करार दिया है. कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि नई कीमतों से बिजली सस्ती नहीं बल्कि महंगी हुई है और ये कदम प्राइवेट कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए उठाया गया है. अजब गजब अन्य कोई Dansk 1699914088खरीदे सिरफिरे ने युवती को चाकू से गोदा, मोबाइल लेकर हुआ... सांख्यिकी एवं मानचित्र हिमाचल अधिमान्यता # Dehradun Latest News Update ये एक्सटर्नल लिंक हैं जो एक नए विंडो में खुलेंगे दंगों में भाजपा दूध की धुली है तो प्रकाश कमेटी रिपोर्ट को कूड़ेदान में क्यों डाल दिया : भूपेंद्र सिंह हुड्डा Spread the word प्रियंका को निक ने पहनाई इतनी महंगी अंगूठी की कीमत जानकर आप दंग रह जाएंगे आवेग वोल्टेज की प्रतिरक्षा 07/14/2011 - 12:21 Shenzhen Calinmeter Co,.LTD केंद्र की नई पावर पॉलिसी उपभोक्ताओं को देगी सस्ती बिजली का तोहफा वृश्चिक राशि वालों आज आप काफी रोमांटिक मूड में रहेंगे। परिवार के साथ टूर पर जाने का प्रोग्राम बना......Read more utall इतना ही नहीं अगर आप बिजली का बिल Paytm से भरते हैं तो आप वॉशिंग मशीन, बाइक, फ्रिज और एलईडी बल्ब भी जीत सकते हैं। दिल्ली में ज्यादातर लोग समय से बिजली का बिल जमा नहीं करते, जिसकी वजह से बिजली कंपनी को काफी नुकसान होता है। इस नुकसान को कम करने के लिए कंपनी ने यह ऑफर शुरू किया है। कंपनी ने यह लोग समय पर बिजली बिल जमा कराए इसके लिए शुरू की है। लेटेस्ट न्यूज़ Submittingजमा करें लखनऊ: भारी बार‍िश के बाद पुल‍िस चौकी की छत ग‍िरी संजय शर्मा‏ @sharma__sanjay 18 Aug 2015 Dari دری पंचतत्व में विलीन हुए “अटल बिहारी” | दत्तक पुत्री नमिता ने दी मुखाग्नि इसके अलावा बिहार और उत्तर प्रदेश से 33 केवी और 132 केवी रेडियल मोड में नेपाल को मामूली विद्युत का निर्यात करता रहा है। भारत नेपाल को 11 केवी, 33 केवी और 132 केवी लेवल पर 12000 से अधिक सीमापार इंटरकनेक्शनों के लिये लगभग 190 मेगावाट विद्युत का निर्यात कर रहा है। 2016 में 400 केवी लाइन क्षमता (132 केवी क्षमता के साथ संचालित) मुजफ्फरपुर (भारत)-धालखेबर (नेपाल) के चालू हो जाने के बाद नेपाल को विद्युत निर्यात में लगभग 145 मेगावाट की वृद्धि हुई। आरामदेह और किफायती All content on this website is published अनंत की यात्रा पर निकले अटल बिहारी वाजपेयी, केजरीवाल-सिसोदिया ने स्मृति स्थल पर दी अंतिम विदाई देश के प्रीमियम स्मार्टफोन बाजार में यह कंपनी रही सबसे आगे abcBABYart – Create Custom Nursery Art वितरण निगम पर 120 करोड़ की पेनाल्टी पारेषण अवलोकन सीएचसी चंदनकियारी अब तक लगे टॉवर पो बा सं 8066, सदशिवनगर (पी ओ) , Published Date 2016/09/16 20:35, Written by- Goverdhan Chaudhary आपका शहर साइन इन मीडिया पुरस्कार नियम मेरी कहानी केरल में प्रलंयकारी बाढ़: अबतक 324 लोगों की मौत, भारी बारिश की चेतावनी Of India गुलज़ार...आधी सदी से जो ताज़ादम है SUPPORT 0 replies 0 retweets 0 likes उत्तर प्रदेश में बिजली हुई महंगी, जानिए कितनी बढ़ी कीमतें SSC कांस्टेबल 55000 भर्ती: पहली बार होगी कंप्यूटर बेस्ड लिखित परीक्षा, पहाड़ के युवाओं को हो सकती है दिक्कत ePaper चतरा Top-News Jalandhar कार्यालयीन निविदा देवाशीष सिंह प्रायोगिक लाइन # Maharashtra Band# Akhilesh Yadav# Kanwar Yatra 2018# Maharashtra Band Today# Dawood Ibrahim# Rains in Mumbai# Delhi Samachar# Gujarat News# Hindi Samachar# Burari Case विद्युत प्रदायक बदलें - इलेक्ट्रिक बिल कैसे कम करें विद्युत प्रदायक बदलें - उसी दिन की सेवा विद्युत प्रदायक बदलें - ऊर्जा प्रदायक चुनें
Legal | Sitemap