10:07 और भी पढ़ें ‘सबके लिए बिजली’ (पावर फॉर ऑल) के लक्ष्य की पूर्ति एक बहुत बड़ी चुनौती है। इसके मद्देनजर आम लोगों को नए कनेक्शन सरल और आकर्षक शर्तों पर उपलब्ध कराना आवश्यक है। साथ ही बिजली का इस्तेमाल करने वाले सभी लोगों के कनेक्शन लेने से बिजली के वैध उपयोग को बढ़ावा मिलेगा।  02018-05-28T16:54:50 अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न Sections of this page 9ट्रेंडिंग लखनऊ Sat Aug 18 2018 00:26:44 GMT-0500 (Central Daylight Time) URL: https://www.youtube.com/watch%3Fv%3DcsuXcP95mz8 1 हफ्ते से पानी नहीं, 3 पंचायतों के दर्जनों गांव प्रभावित Sri nagar Updated Sat, 21 Jul 2012 12:00 PM IST July 2018 तमिर-ए-हरियाणा मुख्यमंत्री स्थायी कृषि पंप कनेक्शन योजना के नये प्रावधान Quick Rubric – Easily Make and Share Great-Looking Rubrics लोकायुक्त ने बिजली कंपनी के जेई के खिलाफ पेश किया चालान × चण्डीगढ़, 14 जून- हरियाणा सरकार ने राज्य में सूक्ष्म और लघु उद्यमों को सस्ती बिजली आपूर्ति प्रदान करने के लिए ‘पावर टैरिफ सब्सिडी योजना’ अधिसूचित की है। इस योजना के तहत, ‘सी’ और ‘डी’ श्रेणी खंडों में सूक्ष्म और लघु उद्यमों को बिजली कनेक्शन जारी करने की तिथि से तीन वर्ष के लिए दो रुपये प्रति यूनिट की पावर टैरिफ सब्सिडी प्रदान की जाएगी। जवाब -हमारे देश में घरेलु विद्युत् कनेक्शन लेने वाले लोगों का प्रतिशत बहुत कम है। इस सौभाग्य योजना का उद्देश्य देश के सभी ग्रामीण और शहरी इलाकों में रहरहे सभी शेष गैर-विद्युतीकृत परिवारों को अंतिम छोर तक बिजली कनेक्शन द्वारा ऊर्जा प्रदान करना है। उज्ज्वला योजना की शुरुआत के बाद एलपीजी कनेक्शन की संख्या में हालांकि बड़ा इजाफा देखा गया है. लेकिन इसके हिसाब से एलपीजी की खपत उतनी नहीं हुई है. रेलवे: आवेदनों की जांच अंतिम दौर में, सितंबर में परीक्षा संभव धनबाद जिला संगठन सचिव, आजसू पश्चिमी चंपारण National News Hindi(देश) सरकारी योजनाओं के बारे में अंग्रेजी में पढ़ें  शहरी शहरी घरेलू उपभोक्ताओं को अब 10 रुपये प्रति किलोवाट अधिक फिक्स चार्ज देने के साथ 45-50 पैसे प्रति यूनिट ज्यादा भुगतान करना पड़ेगा। राज्य विद्युत नियामक आयोग ने वर्ष 2017-18 के लिए 30 नवंबर को नई बिजली दरों का एलान किया था। सभी श्रेणियों में कुल मिलाकर औसतन 12.73 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है। अस्‍थायी कनेक्‍शन के लिए 34.75 प्रतिशत ज्यादा भुगतान करना होगा। CSC-UIDAI मंगलवार को बिहार विकास मिशन के छह सर्कुलर रोड के सभाकक्ष में बिहार की बिजली घरों बरौनी, कांटी व नवीनगर की कुल 3310 मेगावाट उत्पादन वाली तीनों यूनिटों को एमओयू कर 30 साल के लिए लीज पर एनटीपीसी के हवाले किया गिया। हस्तांतरण समारोह में मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्यहित में बिजली घरों के संचालन का जिम्मा एनटीपीसी को दिया जा रहा है। इस करार से बिहार को हर साल 875 करोड़ की बचत होगी। एनटीपीसी को बिजली घर देने से बिजली दरों में कमी आएगी। जनता को सस्ती बिजली मिलेगी। # News आरा मेरी उड़ान : गोठ एप से जानिए कैसे मिलती है बैंक में नौकरी पुंछ पीएम मोदी के साथ चल रही भीड़ में शामिल थे आईबी के 600 लोग, 50 शार्पशूटरों की थी नजर Download IBC24 Mobile Apps गैजेट्स नया सरल बिजली बिल स्कीम योगी आदित्यनाथ 0 replies 1 retweet 0 likes जीजा करता था साली से दरिंदगी, साली ने प्रेमी के... लातेहार : दीपावली से पूर्व शहर के सभी घरों तक... इसलिए योजना को सभी पहलुओं के बारे में लोगों को जागरूक बनाने के लिए व्यापक मल्टी-मीडिया अभियान चलाया जाएगा। बिजली विभाग के साथ-साथ सौभाग्य योजना के बारे में जागरुकता पैदा करने के लिए डिस्कॉम के अधिकारियों ने ग्रामीण इलाकों में शिविरों का आयोजन भी किया था। जागरूकता अभियान में स्कूल शिक्षक, ग्राम पंचायत सदस्य, स्थानीय साक्षर / शिक्षित युवा भी शामिल होंगे। पहले चरण का प्रशिक्षण आसान था. इसमें सभी प्रशिक्षुओं को 5000-12,000 रुपये देने थे. इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं कि नेशनल स्किल डेवलपमेंट काउंसिल (एनएसडीसी) पहले चरण का लक्ष्य प्राप्त कर लिया. इसने 18 लाख लोगों को प्रशिक्षण दिया और अतिरिक्त 12 लाख लोगों को प्रमाणित भी किया. 16 1 अगस्त 2018 Get 6 Months FREE Magazine (Current Affairs Today) Subscription आयाम: 160x112x58mm अजमेर में 5551 युवाओं ने हेलमेट के साथ निकाली वाहन रैली, बना रिकॉर्ड vaastu1 day ago 6 7 8 9 10 11 12 Polish Polski German Deutsch अमरीका रुड़की मंदाकिनी घाटी में आग Work With Us बच्चे की तरकीब के मुरीद हुए आनंद महिंद्रा, करना चाहते हैं हा... शाहरुख और अनुष्का के साथ डेट पर जाने का मिलेगा मौका, जानने के लिए पढ़ें ये खबर   डेवलपिंग एरिया FR / ES / DE / RU #JusticeForNoura "On Monday morning, just as we set out for our daily walk, my mother told me the story of Noura Hussein :  At 16, Noura was forcibly married off by her father. She refused… Read more दिल्ली वालों के लिए बड़ी खुशखबरी! सस्ती हुई बिजली, ये रहीं नई दरें जर्मन और चीनी पैसिव हाउस. ये एक कारखाने का मॉडल है जो चीन के हार्बिन में पैसिव हाउस स्टैंडर्ड के हिसाब से बनाया जा रहा है. चीनी कंपनी सायास इन मकानों के लिए खिड़कियां बनाना शुरू कर चुकी हैं और इस तरह के मकान बनाने वाली पहली चीनी कंपनी है. विद्युत प्रदायक बदलें - सस्ता बिजली प्रदाता खोजें विद्युत प्रदायक बदलें - मेरे पास ऊर्जा प्रदाता विद्युत प्रदायक बदलें - इलेक्ट्रिक सेवा प्रदाता
Legal | Sitemap